नौकर से करवाई मेरी चूत की चुदाई

Hindi xxx chudai kahani - नौकर के साथ मालकिन की चुदाई, Naukar se chudwaya xxx hindi story, नौकर से चुदवाया Pyasi chut ki kahani, नौकर ने मालकिन को चोदा Sex story, नौकर से चूत की खुजली मिटवाई Hot hindi kahani, नौकर ने मुझे चोदा xxx story, नौकर से मेरी प्यासी चूत की चुदाई करवाई, नौकर का 9 इंच का लंड से खूब चुदी xxx real kahani, नौकर ने चूत की प्यास बुझाई hindi story, नौकर से चूत चटवाई, नौकर से गांड मरवाई, नौकर से चूत की प्यास बुझाई antarvasna ki hindi sex stories,

मेरा नाम स्नेहा है. मैं अपनी पहली चुदाई की दास्तान लिख रही हूँ. उस समय मेरी उमर 18 साल की थी. मेरे घर पर मयंक नाम का एक नौकर रहता था. उसकी उमर लगभग 42 साल थी. वो देहात का रहने वाला था और बहुत ही ताकतवर था. उसका बदन किसी पहलवान जैसा था. मेरे मम्मी पापा उस पर बहुत विश्वास करते थे. जब कभी मेरे मम्मी पापा बाहर जाते तो मुझे उसके साथ घर पर अकेला छोड़ जाते थे.एक दिन मेरे मम्मी पापा 4-5 दिनो के लिए बाहर चले गये. घर पर मैं और मेरा नौकर ही रह गये थे. शाम को उसने खाना बनाया और मुझे खिलाने के बाद खुद खाया. रात के 9 बज रहे थे. वो और मैं बैठ कर टीवी देख रहे थे. कुच्छ देर बाद मुझे नींद आने लगी और मैने टीवी बंद कर दिया. मैने अपने बेड पर सो गयी और वो हमेशा की तरह मेरे बेड के पास ही ज़मीन पर सो गया. रात के 2 बजे मैं बाथरूम जाने के लिए उठी तो मेरी निगाह उस पर पड़ी. उसकी धोती हट गयी थी और उसका लंड धोती के बाहर बाहर निकला हुआ. वो लगभग 9″ लंबा और बहुत मोटा था.

वो गहरी नींद में सो रहा था और खर्राटे भर रहा था. मैं खुद को रोक नहीं पे और बड़ी देर तक उसके लंड को देखती रही. मैने कभी इतना लंबा और मोटा लंड नहीं देखा था. मैं जवान तो थी ही, उसका लंड देख कर मुझे जोश आ गया और मैने मन ही मन उस से चुदवाने की ठान ली. मैं बाथरूम से वापस आ कर लेट गयी और सोचने लगी कि उस से कैसे चुदवाया जाए. मेरे मन में एक ख़याल आया और मैं सो गयी.सुबह हुई तो मयंक ने मुझे जगा दिया और चाय बनाने चला गया. थोड़ी देर बाद उसने मुझे बेड टी ला कर दी. मैं चाय पीने के बाद फ्रेश होने बाथरूम चली गयी. बाथरूम से नहा कर निकलने के बाद मैं बाथरूम के बाहर ज़मीन पर लेट गयी और ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी. मैने केवल एक टवल लपेट रखा था. मयंक दौड़ा हुआ आया और मुझे देख कर बोला क्या हुआ बेबी. मैने कहा मैं नहा कर निकली तो मेरा पैर सरक गया और मैं गिर पड़ी. मैं उठ नहीं पा रही हूँ. तुम मुझे सहारा दे कर बिस्तर तक ले चलो. मयंक ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे सहारा दिया लेकिन मैं खड़ी नहीं हो पा रही थी. वो मुझे गोद में उठा कर बेड पर ले जाने लगा तो मेरी टवल नीचे गिर गयी और मैं एक दम नंगी हो गयी. वो मुझे उसी तरह उठा कर बेड पर ले गया. उसकी आँखों में एक चमक सी आ गयी. मैं समझ गयी कि अब मेरा काम बन जाएगा.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है ।बेड पर लिटाने के बाद उसने मेरी टवल मेरे उपर डाल दी और बोला, “कहाँ चोट लगी है बेबी.” मैने अपने घुटनो की तरफ इशारा कर दिया. वो जा कर आयोडेस्क् ले आया और बोला, “लाओ, आयोडेस्क लगा दूं.” मैने कहा, “ठीक है, लगा दो.” उसने मेरे घुटनो पर से टवल को उपर कर दिया और आयोडेस्क मलने लगा. उसके हाथ फिराने से मुझे जोश आने लगा. मैने कहा, “थोड़ा और उपर भी लगा दो, वहाँ भी चोट लगी है.” उसने मेरा टवल थोड़ा और उपर कर दिया और मेरी जाँघो पर भी मालिश करने लगा. मैं और जोश में आ गयी. मैने देखा कि वो एक हाथ से कभी कभी अपने लंड को भी मसल देता था. उसको भी जोश आ रहा था. मालिश करते हुए वो धीरे धीरे और उपर की तरफ हाथ बढ़ने लगा. मैं और ज़्यादा जोश में आ गयी और अपनी आँखें बंद कर ली. वो अपने हाथों से मेरी चूत से केवल 4″ की दूरी पर मालिश कर रहा था. मेरी चूत अभी भी टवल से धकि हुई थी. मैं उस से चुदवाना चाहती थी, इस लिए मैने कुच्छ नहीं कहा. वो धीरे धीरे अपना हाथ और उपर की तरफ बढाने लगा. थोड़ी ही देर में मेरी चूत पर से टवल हट गयी और वो मेरी चूत को निहार रहा था. मालिश करते हुए बीच बीच में वो अपनी उंगली से मेरी चूत को भी टच करने लगा.

उसका लंड धोती के अंदर पूरी तरह तन चुका था. थोड़ी देर तक वो मेरी चूत को उंगली से टच करते हुए मेरी मालिश करता रहा. मैं और जोश में आ गयी. मैने उसे रोका नहीं. उसकी हिम्मत और बढ़ गयी. उसने अपने दूसरे हाथ से मेरी चूत को सहलाना शुरू कर दिया. मैने कहा, “तुम ये क्या कर रहे हो.” वो बोला, “कुच्छ भी तो नहीं. मुझे ये अच्छा लग रहा था, इस लिए मैं इसे छू कर देख रहा था.” मैने कहा, “मुझे भी अच्छा लग रहा है, तुम ऐसे ही मालिश करते रहो. थोड़ा उस पर भी मालिश कर देना.” वो समझ गया और बोला, “ठीक है, बेबी.” वो अपने एक हाथ से मेरी चूत को सहलाते हुए दूसरे हाथ से मेरी जांघों पर मालिश करता रहा. थोड़ी देर बाद उसने अपनी एक उंगली मेरी चूत मे डाल दी और अंदर बाहर करने लगा. मेरे मूह से सिसकरी निकलने लगी. मैने एक दम मस्त हो गयी थी और मैने उसे रोका नहीं.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है ।उसकी हिम्मत और बढ़ गयी. उसने कहा तुम्हारा बदन बहुत खूबसूरत है. मैं देखना चाहता हूँ. मैने कहा देख लो. उसने टवल हटा कर फेंक दिया. मैं कुच्छ नहीं बोली. अब मैं बिल्कुल नंगी थी और मयंक एक हाथ से मालिश करता रहा और दूसरे हाथ की उंगली को मेरी चूत के अंदर बाहर करता रहा. मैं जानती थी कि वो एक मर्द है और अपने सामने एक नंगी और कुँवारी लड़की को देख कर ज़्यादा देर बर्दास्त नहीं कर पाएगा.वो मुझे चोदेगा ज़रूर और मैं उस से चुदवाना भी चाहती थी. थोड़ी देर बाद उसने अपनी उंगली मेरी चूत से निकाल ली और मेरी चुचियाँ मसल्ने लगा. मैं कुच्छ नहीं बोली. उसने मालिश करना रोक दिया और अब अपने दूसरे हाथ की उंगली मेरी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा. थोड़ी ही देर में मेरी चूत से पानी निकल पड़ा. उसने अपनी जीभ से मेरी चूत को चाटना शुरू कर दिया. मैं अब जोश से एक दम बेकाबू हो रही थी. वो मेरी चूत को चाटने और चूसने लगा. उसका एक हाथ अभी भी मेरी चूचियों पर था और वो उसे मसल रहा था. मेरे मूह से सिसकारियाँ निकलने लगी.

कुच्छ देर तक मेरी चूत को चूसने के बाद वो हट गया और अपनी धोती खोलने लगा. धोती खुलते ही उसका मोटा और लंबा लंड बाहर आ गया. उसने अपना कुर्ता भी उतार दिया. अब वो बिल्कुल नंगा था. वो मेरे करीब आ गया और अपना लंड मेरे मूह के पास कर दिया. मैं एक दम जोश में थी और उसके बिना कुच्छ कहे ही मैने उसके लंड पर अपनी जीभ को फिराना शुरू कर दिया. वो आहें भरने लगा. मैने उसका लंड मूह में ले कर चूसना चाहती थी. उसका लंड बहुत मोटा था और मेरे मूह में थोड़ा सा ही गया. वो बोला, “बेबी, चूसो इसे.” मैं उसका लंड चूसने लगी. थोड़ी देर तक चूसने के बाद उसका लंड एक दम टाइट हो गया. उसने अपना लंड मेरे मूह से निकाल लिया और मेरे पैरों के बीच आ गया. मैं समझ की गयी अब मेरी मन की मुराद पूरी होने वाली है.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है ।लेकिन मैं उसके लंड के साइज़ को देख कर घबडा भी रही थी. उसने मेरी चूतड़ के नीचे 2 तकिये रख दिए. मेरी चूत एक दम उपर उठ गयी. उसने मेरी टाँगो को पकड़ कर फैला दिया. अब उसने अपने लंड की टोपी को मेरी चूत के बीच में रखा और धीरे धीरे अंदर दबाने लगा. मुझे दर्द होने लगा और मेरे मूह से चीख निकल गयी. वो बोला थोड़ा बर्दाश्त करो बेबी, अभी कुच्छ देर में तुम्हारा दर्द ख़तम हो जाएगा और तुम्हें खूब मज़ा आएगा. वो अपना लंड मेरी चूत में धीरे धीरे घुसाने लगा.

मैं फिर चिल्लाने लगी तो वो रुक गया. थोड़ी ही देर मे जब मैं शांत हो गयी तो उसने अपना लंड धीरे धीरे अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. वो अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाले बिना मुझे चोदने लगा. थोड़ी ही देर में मुझे मज़ा आने लगा और मैं आहें भरने लगी. उसने जब देखा कि मुझे मज़ा आ रहा है तो उसने एक धक्का तेज लगा दिया. मैं फिर से चीख उठी. उसका लंड मेरी चूत में थोड़ा और अंदर घुस गया. वो उतना ही लंड मेरी डाल कर मुझे चोद्ता रहा. थोड़ी देर बाद जब मैं फिर शांत हुई तो उसने फिर एक ज़ोर दार धक्का लगा दिया. उसका लंड मेरी चूत में और ज़्यादा घुस गया. वो मुझे इसी तरह चोदता रहा. मैं जैसे ही शांत होती वो एक धक्का तेज मार देता था और उसका लंड मेरी चूत में और ज़्यादा घुस जाता था. 10-15 मिनिट तक चोदने के बाद ही वो मेरी चूत में झाड़ गया. इस बीच मैं भी 2 बार झाड़ चुकी थी.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है ।उसका लंड अभी तक मेरी चूत में केवल 6″ तक ही घुसा था और 3″ अभी भी बाकी था. उसने अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाला और मेरे मूह के पास कर दिया. मैं उसे चूसने लगी. थोड़ी ही देर में उसका लंड फिर से तन गया. उसने मुझे अब घोड़ी की तरह कर दिया और मेरे पीछे आ गया. उसने मेरी चूत को फैला कर बीच में अपने लंड को फसा दिया और बोला, “अभी तक मैने तुम्हें बहुत आराम के साथ चोदा है. अब तुम कितना भी चिल्लाओ, मैं कोई परवाह नहीं करूणा.” उसने मेरी कमर को ज़ोर से पकड़ लिया और एक जोरदार धक्का मारा तो उसका आधा लंड मेरी चूत में घुस गया. मैं चिल्लाने लगी लेकिन उसने कोई परवाह नहीं की और बहुत ही ताक़त के साथ धक्का मारने लगा.

मेरी चूत में बहुत तेज दर्द होने लगा. मैं पसीने से एक दम तर हो गयी. वो रुका नहीं और पूरी ताक़त के साथ मेरी चुदाई शुरू कर दी. थोड़ी ही देर बाद उसने अपना पूरा का पूरा 9″ लंबा लंड मेरी चूत के अंदर घुसा दिया. फिर वो 2 मिनिट के लिए रुका और बोला, “अब जाकर तुम्हारी चूत ने मेरा पूरा लंड खाया है.” अब मैं इसे चोद चोद कर एक दम ढीला कर दूँगा. 2 मिनिट तक रुके रहने के बाद उसने अपने हाथों से मेरी कमर को ज़ोर से पकड़ लिया और मेरी चुदाई करने लगा. मुझे अभी भी बहुत दर्द हो रहा था. लगभग 10 मिनिट की चुदाई के बाद मेरा दर्द कुच्छ कम हुआ और मुझे मज़ा आने लगा.वो मुझे बड़ी बेदर्दी से चोद रहा था. लगभग 30 मिनिट की चुदाई के बीच मैं 4 बार झाड़ चुकी थी पर वो रुकने का नाम नही ले रहा था. वो अभी झाड़ा नहीं था. उसने अपना लंड बाहर निकाला और मेरी गान्ड के छेद पर रख दिया. मैं डर के मारे थर थर काँपने लगी. मैने उस से बहुत मिन्नत की मेरी गान्ड को छोड़ दो, लेकिन वो माना नहीं. नौकर का लंड मेरी चूत के पानी से के दम गीला था. उसने मेरी गान्ड में अपना लंड घुसाना शुरू कर दिया. मैं दर्द से तड़पने लगी लेकिन वो रुकने का नाम नहीं ले रहा था. वो बोला अब मैं तुम्हारी गान्ड के छेद को भी चौड़ा कर दूँगा. मैं चिल्लाती रही और वो मेरी गान्ड में अपना लंड घुसाता रहा. 5 मिनिट की कोशिश के बाद आख़िर उसने अपना 9″ का पूरा लंड मेरी गान्ड में घुसा ही दिया. मैं अभी भी चिल्ला रही थी और रो रही थी लेकिन वो रुक नहीं रहा था और तेज़ी के साथ अपने लंड को मेरी गान्ड में अंदर बाहर कर रहा था.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है ।उसने लगभग 20 मिनिट तक मेरी गान्ड मारी लेकिन वो झाड़ा नहीं. मैने पूछा, “और कितनी देर चोदोगे मुझे.” वो बोला, “मेरी उमर 42 साल है. मैने बहुत चुदाई की है. मेरा दोबारा इतने जल्दी नहीं झड़ने वाला. अभी तो मैने तुम्हें लगभग 45 मिनिट ही चोदा है और अभी लगभग 30 मिनिट और चोदुन्गा, तब जा कर मेरे लंड से पानी निकलेगा.” मैं घबड&##2366; गयी. मैने कहा तुम अब रहने दो, बाद में अपनी इच्च्छा पूरी कर लेना. वो नहीं माना. उसने अपना लंड मेरी गान्ड से बाहर निकाला और मेरी चूत में घुसा दिया.चूत में लंड घुसाने के बाद उसने बहुत तेज़ी के साथ मेरी चुदाई शुरू कर दी. 5 मिनिट बाद ही उसने मेरी चूत से लंड को निकाल कर वापस मेरी गान्ड में डाल दिया और चोदने लगा. वो इसी तरह हर 5 मिनिट के बाद मेरी चूत और गान्ड की चुदाई करता रहा. लगभग 25-30 मिनिट तक इसी तरह चोदने के बाद वो बोला, “मैं अब झड़ने वाला हूँ. तुम बताओ कि मेरे लंड का पानी कहाँ लेना चाहती हो, अपनी चूत में या गान्ड में.” मैने कहा, “तुम मेरी गान्ड में ही पानी निकाल दो, चूत में तो तुम पहले भी निकाल चुके हो.” उसने अपना लंड मेरी चूत से निकाल कर वापस मेरी गान्ड में डाल दिया और मेरी गान्ड मारने लगा. उसके झड़ने का वक़्त नज़दीक आ गया था और वो अब एक तूफान की तरह मेरी गान्ड में अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था.

थोड़ी ही देर में उसके लंड से पानी निकलना शुरू हुआ और मेरी गान्ड एक दम भर गयी. पानी निकल जाने के बाद वो हट गया. मेरी चूत और गान्ड कयी जगह से कट गयी थी. बिस्तर पर भी ढेर सारा खून लगा था. मेरी चूत एक दम डबल रोटी की तरह सूज गयी थी. मेरी चूत और गान्ड में दर्द बहुत हो रहा था लेकिन मुझे जो मज़ा इस चुदाई से मिला उसके आगे यह दर्द कुच्छ भी नहीं था. उसने कहा तुम्हारी चूत में दर्द बहुत हो रहा होगा तो मैने अपना सिर हां में हिला दिया. वो किचन से पानी गरम करके ले आया और मेरी चूत को सेकने लगा और बोला इस से दर्द कम हो जाएगा. कुच्छ देर तक सिकाई के बाद मेरा दर्द बहुत हद तक कम हो गया.अब तक सुबह हो चुकी थी. मैं बाथरूम जाना चाहती थी पर उठ नहीं पा रही थी. मैने उस से कहा मैं बाथरूम जाना चाहती हूँ लेकिन उठ नहीं पा रही हूँ. वो मुझे गोद में उठा कर बाथरूम ले गया. मैने उस से कहा तुम बाहर जाओ मुझे नहाना है.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है ।वो बोला, “मुझे भी नहाना है. हम दोनो साथ ही नहाते हैं.” उसने मेरे सारे बदन पर साबुन लगाया और अपने बदन पर भी. नहाने के बाद वो मुझे गोद में ही उठा कर बिस्तर पर ले आया. वो मेरे बदन को देखने लगा. मेरे बदन की खूबसूरती उसे बर्दास्त नहीं हुई और वो फिर से जोश में आ गया. उसका लंड फिर तन गया तो मैं घबडा गयी. उसने मेरे मना करने के बाद भी मुझे घोड़ी बना कर फिर से मेरी चुदाई शुरू कर दी. इस बार उसने केवल मेरी चूत की ही चुदाई की. उसने इस बार मुझे लगभग 1 1/2 घंटे तक चोदा तब कहीं जा कर उसके लंड से पानी निकला. इस दौरान मैं 4 बार झाड़ चुकी थी. चुदाई ख़तम होने के बाद मैने उस से कहा, “मैं चल नहीं पा रही हूँ. मेरे मम्मी पापा आ जाएँगे तो क्या जवाब दूँगी.

” वो बोला, “तुम पहले नाश्ता कर लो. मैं अभी बाज़ार से दवा ले आता हूँ.” कुच्छ देर बाद हम ने नाश्ता कर लिया तो बाज़ार चला गया. 1 घंटे के बाद वो एक क्रीम और कुच्छ गोलियाँ ले कर आया. उसने मुझे दवा खिला दी और मेरी चूत पर क्रीम लगाने लगा. क्रीम लगाने के बाद वो खाना बनाने चला गया. 1 घंटे के बाद मेरा सारा दर्द ख़तम हो गया. खाना बन जाने के बाद उसने मेरी थाली में साथ ही साथ खाना खाया. रात हुई तो उसने मुझे फिर चोदना शुरू कर दिया. इस बार वो रुक रुक कर मुझे चोद रहा था. जब वो झड़ने वाला होता तो हट जाता और कुच्छ देर आराम करता. थोड़ी देर आराम करने के बाद वो फिर से मुझे चोदने लगता. इसी तरह वो बिना झाडे मुझे पूरी रात चोद्ता रहा. सुबह को ही उसने अपनी चुदाई पूरी की और मेरी चूत में ही झाड़ गया. पूरी रात में मैं 8 बार झाड़ चुकी थी.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है । मम्मी पापा के आने तक उसने मुझे 6 बार चोदा. मैने जब कुच्छ दिनो बाद अपने एक बॉय फ्रेंड से चुदवाया तो मुझे मज़ा तो आया लेकिन मयंक की चुदाई जैसा नहीं. मेरा बॉय फ्रेंड मुझे 10-15 मिनिट ही चोदने के बाद झाड़ गया. अब मैं पूरी तरह समझ गयी कि उसकी 6 बार की चुदाई नये और जवान लड़कों से 24 बार चुदवाने के बराबर थी.कैसी लगी नौकर से मेरी चुदाई कहानी , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर कोई मेरी चुदाई करना चाहते हैं तो ऐड करो Facebook.com/Lund ki pyasi chut.

नौकर मालकिन की चुदाई कहानियाँ

Naukar malkin ki chudai kahani, नौकर मालकिन की चुदाई, Naukar ke saath malkin ki chudai, चुदाई की सच्ची कहानियां, Antarvasna hindi sex stories, सेक्सी मालकिन ने नौकर से चुदवाया, Kamukta sex story, नौकर और मालकिन की सेक्स - सच्ची कहानी, Desi xxx kamasutra, Hindi sex kahani, Chudai, Chudai stories, Kamuk Kahani, Sex Kahani, xxx hindi kahani, नौकर और मालकिन की चुदाई Desi xxx kahani, नौकर से अपनी चूत को चुदवाया Hindi sex story, नौकर ने मेरी चूत को चोदा Sex Kahani, मेरी चूत में नौकर का लंड Sachchi kahani, नौकर से चूत की खुजली मिटवाई Antarvasna ki hindi sex stories, नौकर का 8" का लंड से खूब चुदी Hindi story, नौकर ने चूत की प्यास बुझाई Chudai Kahani, नौकर से चूत चटवाई, Naukar se chudwaya sachchi kahani, नौकर से गांड मरवाई, नौकर से चूत की प्यास बुझाई Mastram ki hindi sex stories,

नौकर से चुदाई बीवी को अपने नौकर की लम्बा लौड़ा से चुदते हुए देखा कमरे में गुलाब का पंखुड़ी रात वह की फिजां को मदमस्त कर देता है, और चारो कोने में जब मोमबती की रौशनी होती है तो दोनों आत्मा का मिलन हो जाता है, वो रात की अटखेलियां, हम दोनों एक दूसरे को खुसबू बाली तेल जो की अरब देश से मंगवाए है एक दूसरे का मालिश करते है, और जब वासना परवान चढ़ता है तो कामसूत्र के सारे कठिन से कठिन चुदाई का तरीका आजमाता हु,

दोनों की ज़िंदगी बहुत ही अच्छी चल रही थी. पर मैंने एकदम से एक बदलाब देखा रम्भा में, जब मैं इस बार गर्मियों में गाँव गया तो वह देखा, गाँव में आलीशान मकान है जिसको वह के लोग हवेली कहते है, उसका देखभाल एक मेरा नौकर करुवा करता है, करुवा खानदानी नौकर है उसके पिताजी भी मेरे यहाँ काम करते है, गाँव में कोई नहीं रहता है माँ और पिताजी दोनों सिंगापुर में रहते है बड़े बही साहब के पास, दोस्तों ये कहानी आप निऊहिंदीसेक्सस्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।वो लोग साल के गर्मियों में ही आते है, इस बार मैं ७ दिन पहले ही पहुंच गए थे, करुवा ने घर को और बागान को काफी सुन्दर कर दिया था, तरह तरह के फूल और पौधे लगे थे, घर का छटा देखने में ही बन रहा था कहा यहाँ की शांति और कहा दिल्ली का भागदौड़ भरी ज़िंदगी.रात को बिजली चली गई थी, और जनरेटर में कुछ खराबी था इस वजह से मैं और रम्भा दोनों छत पे चले गए सोने के लिए काफी अच्छी हवा आ रही थी.

सुबह जब नींद खुली तो देखा नौकर करुवा जो की पहलवानी भी करता है वो कुश्ती लड़ने जिला लेवल पे जाता है, वो सुबह सुबह ही सरसों का तेल लगा के कसरत कर रहा था छत पे उसका कमरा छत पे ही है, करुवा एक ४० साल का लंबा चौड़ा और मजबूत इंसान है, वो नागे बदन था और नंगोट पहना हुआ था, वो रम्भा को घूर रहा था, जब मेरी नजर पास में ही सोई रम्बा पे गया तो रम्बा के कपडे काफी अस्त व्यस्त थे शायद रात की चुदाई के बाद जो कपडे अस्त व्यस्त थे वो ऐसे ही पड़े थे, ब्लाउज का हुक खुला था और ब्रा से उसकी दोनों चूचियाँ बाहर आने को बेताब थी, साडी घुटनो के ऊपर तक था पेट और नाभि दिख रही थी, बाल खुले और होठ गुलाबी रम्भा सेक्स की देवी लग रही थी.मैं समझ गया की करुवा क्या देख रहा था, करुवा का लण्ड टाइट हो गया था लंगोट में साफ़ साफ़ करीब १० इंच का दिख रहा था मेरा तो ५ इंच का ही है, मुझे ठीक नहीं लग रहा था.

मैं रामभजा को देखा तो हैरान रह गया रम्भा भी दबी हुई निगाहों से करुवा को निहार रही थी, फिर मैं उठ गया और बोला रम्भा उठो उठो सुबह हो गया है, दोस्तों ये कहानी आप निऊहिंदीसेक्सस्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। रम्भा तो पहले से उठी थी वो तो मोटे लण्ड को निहार रही थी, फिर वो उठ गई और हम दोनों फिर निचे चले गए, रम्भा का वैसा अस्त व्यस्त बाला रूप देख के मेरे भी लण्ड खड़ा हो गया था निचे पहुंच कर मैं रम्भा के ऊपर चढ़ गया और साड़ी ऊपर कर दी, चूत पहले से ही काफी गीली थी मैं समझ गया की रम्भा का चूत करुवा का टाइट लण्ड को देखकर ही ग़िला हुआ है. पर मैं कुछ भी नहीं कहा और सुबह सुबह ही मैंने रम्भा को चोद दिया और वो भी काफी मजा लिया सुबह की चुदाई का हो सकता है मन में करुवा को रख के मुझसे चुदवा रही थी.चोद कर मैं सो गया, करीब दो घंटे बाद नींद खुली तो रम्भा पास में नहीं थी, मैंने आवाज लगाईं पर वो कही नहीं दिखी.

मैं भागकर छत पे गया और करुवा का कमरा झांक के देखा, करुवा भी नहीं था, तभी सामने ही जो छत पे बाथरूम था वह से आवाज आई, हाय हाय हाय, मालकिन क्या चीज हो आप, उफ्फ्फ्फ़ ओह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्ह मैं दौड़कर बाथरूम के पास पंहुचा करुवा का आवाज था, दोस्तों ये कहानी आप निऊहिंदीसेक्सस्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।दरवाजे में छोटा से होल था उसके झांक के देखा तो करुवा रम्भा के नाम का मूठ मार रहा था, उसका मोटा १० इंच का लण्ड खूंटा की तरह लग रहा था और वो ऊपर से निचे हाथ से कर रहा था, और आआअह आआह आआअह मालकिन आआअह आआह कर रहा था उसकी आँखे बंद थी. तभी उसका वीर्य निक गया, और वो शांत हो गया मैंने तुरंत ही निचे उत्तर गया.

जब निचे आया तो देखा रम्भा गुलाब का फूल तोड़कर बागान से ला रही थी, मैंने पूछा कहा गई थी तो वो बोली मैं आपके लिए ये सुन्दर ताजे फूल लाने गई थी.दिन मेरा किसी तरह से बिता, करुवा मटन बनाया मैंने अपना इम्पोर्टेड शराब निकाला और खाया और पीया, रम्भा भी बियर पि, फिर हम दोनों सोने चले गए, रम्भा मुझे चोदने को कह रही थी पर मुझे काफी नशा हो गया था, मैं कब सो गया पता ही नहीं चला मैं रभा को पकड़ के सो गया, रात के करीब २ बजे नींद खुली तो विस्तार पे रम्भा नहीं थी, मैंने सोचा की वो वाशरूम गयी होगी, उस समय तक मेरा नशा उत्तर चूका था, पानी पिया और वेट करने लगा, पर जब दस मिनट तक रम्भा नहीं आई तो, मैं कमरे से बाहर निकला तो छत पर से आवाज आ रही थी.मैं ऊपर गया तो हैरान रह गया, रम्भा निचे थी और करवा मेरी बीवी को चोदे जा रहा था, वो ऐसे चोद रहा था आज तक मैंने कभी किसी एडल्ट मूवी में भी नहीं देखा था. 

मैंने आजतक किसी अंग्रेज को भी ऐसी चुदाई करते नहीं देखा था मैं वही सीढ़ी पर ही बैठ गया वह थोड़ा थोड़ा अँधेरा था मुझे कोई देख नहीं पा रहा था पर छत पे चांदनी रात थी सब कुछ साफ़ साफ़ दिखाई दे रहा था, करुवा मेरी बीवी के दोनों चूचियों को कभी मसलता और कभी मुह में ले को दाँतों से रगड़ता, कभी कंधे को पकड़ के निचे से जोर जोर से धक्का लगाता, नौकर ने मेरी बीवी के दोनों पैर को अपने कंधे पर रख लिया और वो जब चोदने लगा इतना जोर जोर से, रम्भा तो बस आआह आआह एआईईईई मा मर जाउंगी, आआह आआह इतना जोर से नहीं, आआअह उफ्फ्फ्फ्फ़ फट जाएगी मेरी चूत, आआअह आआआह छोड़ दो अब,आआह आआह मैं बर्दाश्त नहही कर पा रही हु, फिर करुवा रम्भा के मुह में अपना जीभ घुसा दिया चोद रहा था, रम्भा उसका मोटा लण्ड शायद बड़ी मुस्किल से ले पा रही थी, वो चिल्ला रही थी, अब बस करो, जल्दी गिराओ अपना माल, और फिर करीब १० मिनट बाद करुवा झड़ गया और मेरी बीवी के ऊपर ही लेट गया, मेरी बीवी बड़ी मुस्किल से निचे की और बोली, ज़िंदगी में पहली बार आज इतने मोटे लण्ड से चुदी हु, अगर मैं यहाँ नहीं आती तो मुझे इतना मोटा लण्ड भी होता है पता नहीं चलता, मैं तो तुमसे चुदने के लिए सुबह से ही बेक़रार थी, जब से तेरे लण्ड को लंगोट में ही देख ली थी, पर ये मत समझना की मेरा पति मुझे संतुष्ट नहीं करता है, बस थोड़ा बहक गई थी इस वजह से तुमसे चुदवा ली, सुहब तुम आना मैं तुम्हे १० हजार रूपये दूंगी, फिर मैं तुरंत ही निचे आ गया और पलंग पे लेट गया, कैसी लगी नौकर मालकिन की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी बीवी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Bada lund ki pyasi malkin.

नौकर ने मेरा बलात्कार किया - मेरे रेप की कहानी

बलात्कार चुदाई कहानी , mere balatkar ki kahani , Desi xxx rape sex story, Balatkar ki kahani, नौकर ने मुझे रपे किया, Dardnak Chudai Kahani, नौकर ने मुझे जबरदस्ती चोदा, Jabardasti chudai kahani, नौकर ने मेरी चूत फाड़ दी, Desi rape hindi sex story, जबरदस्ती चोदा – हिन्दी सेक्स कहानियाँ, Mastaram Sex kahani, Chut chudai, Gand chudai, Sex story hindi, xxx hindi story.

एक दिन मेरे पति रात को घर पर नहीं थे, मैंने तुरन्त उसे बुला लिया। वो करीब रात नौ बजे मेरे घर पर आ गया। मैं बहुत ही खुश थी क्योंकि आज मुझे पूरा सुख मिलने वाला था। मैं उसे अपने कमरे में ले गई। थोड़ी ही देर में वो शुरु हो गया, मैं भी इसी बात का इन्तजार कर रही थी। उसने मुझे बाहों में लेकर चूमना शुरु किया। वो मेरे कूल्हे पर हाथ फ़िराने लगा, मैं गर्म होने लगी। मैंने भी उसका लन्ड अपने हाथ में ले लिया, मुझे थोड़ी शर्म आ रही थी पर क्या करती, मुझे मजा जो लेना था। उसने मुझे ऊपर किया, नीचे किया, आगे किया , गोद में लेकर चोदा, सब तरीकों से चोदा।

पूरी रात में सुबह के चार बजे तक यही चलता रहा, वो इसी दरमियान चार बार झड़ गया, मैं पाँच बार झड़ गई। उसका हर बार का सारा माल मेरी चूत में ही था, वो पाँच बजे के करीब मेरे घर से चला गया।अब मेरी दुःख भरी कहानी शुरु हुई उसके जाने के बाद !मैं भी फ्रेश होकर सो गई, मेरा पूरा बदन टूट रहा था, मुझमें खड़े होने की भी ताकत नहीं थी। मैं आधे कपड़ों में सो गई।करीब छः बजे मुझे एक आवाज आई- मेमसाब…. मेमसाब…. मेमसाब….मैंने आधी आँखें खोल कर देखा तो वो हमारा नौकर भोला था….मैंने उसे कहा- क्या है इतनी सुबह…. ?
उसने कहा- मेमसाब, रात को मैंने आपकी पूरी फ़िल्म देखी है !
मैं फटाक से बिस्तर से खड़ी हो गई। देखा तो भोला आधा नंगा मेरे सामने खडा था। वो बोला- मेमसाब, अब हमें भी मजा दीजिये ! नहीं तो साहब को पूरी कहानी बतायेंगे।मैं डर गई, मैंने उसे कहा- भोला, अभी मैं बहुत थकी हुई हूँ। प्लीज, तुम सो जाओ…इतना सुनते ही उसने मेरे बाल पकड़ लिये, मैं चिल्लाई- आ… आ…आ…मेरा मुँह खुलते ही उसने उसका दस इन्च का लन्ड मेरे मुँह में डाल दिया….. मेरा चिल्लाना बन्द…..उसने मेरे मुँह में ही चोदना शुरु कर दिया और वो झड़ गया, मेरा पूरा मुँह उसके माल से भर गया। इतना सारा दूध ! मुझे लगा कई सालों से जमा कर रखा था…

उसके तेवर तो देखो- अब मुझे बोला- अब साली नंगी हो जा !ऐसा बोलकर वो खुद नंगा हो गया… मुझे बोला- चल साली, अब तुझे मजा देता हूँ…मेरे कपड़े उसने ही निकाल दिये, मुझे नंगा कर दिया।उसने मुझे बेड पर लिटाया और मेरे ऊपर चढ़ गया। मैंने बोला- नहीं, अभी मत करो…वो मेरी बात मानने वाला नहीं था, उसने मेरे दोनों गोलवे दबाना शुरु किया, फ़िर उसने अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा, जोर जोर से चूसने लगा। अब मुझे भी थोड़ा मजा आने लगा था।फ़िर वो मेरे बदन को चाटता हुआ मेरी चूत तक पहुँचा और मेरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा। अब मुझे पूरी तरह उसका होना पड़ा क्योंकि रात को भी मुझे यह नहीं मिला था जो अब मिल रहा था।मेरे मुँह से निकल गया- वाह भोला ! तूने मेरा दिल जीत लिया…

उसका लन्ड सोया हुआ था, मुझे लगा कि मुझे भी उसे कुछ करना चाहिये, मैंने उसे नीचे लिटा कर उसके होंठ अपने मुँह में ले लिए और उसका लन्ड हाथ में लेकर जगाने लगी। थोड़ी देर में उसका लन्ड खड़ा हो गया, पूरे दस इन्च का ! मैंने उसे चूम लिया और मुँह में ले लिया…

वो बोला- मेमसाब, मैं फिर से झड़ जाउंगा…

मैंने कहा- नहीं अब मत झड़ना… नहीं तो मैं मर जाउंगी….

मैं पूरी गर्म हो चुकी थी, मैंने उसे कहा- भोला, मेरी चूत को फाड दो…

उसने मुझे नीचे पटक दिया, मेरी टांगें फैला कर बीच में आकर अपना लन्ड मेरी चूत पर लगाया….

मैंने उसे कहा- भोला….

उसने जोर से धक्का लगाया… मेरे मुँह से चीख निकल गई …. उ…उ…आ..उ…आ… उसने पूरा लन्ड मेरी चूत डाल दिया…. वो मेरे गोलवे दबाते रहा और चोदता रहा… मुझे बहुत मजा आया…फ़िर मैंने उसे खड़ा किया और मैं उस पर चढ़ गई और धक्के लगाने शुरु कर दिए… वो मेरे कूल्हे दबाने लगा। मैंने उसकी उन्गली अपने मुँह में ले ली और पूरी भिगो दी और उसे कहा- भोला, यह उन्गली मेरी गान्ड में डालो !ये सेक्स कहानी,चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसने पूरी उन्गली मेरी गान्ड में डाल दी। मेरे मुँह से आवाज निकली- आ…आ…आ…

वो बोला- मैं झड़ने वाला हूँ !

मैंने कहा- मैं भी…..

इतने में हम दोनों ही झड़ गये… वो मुझे चिपक कर सो गया…

मैंने कहा- अब तुम्हारा काम करो…

वो बोला- नहीं हम और चुदाई करेंगे…

मैंने उसे समझाया- देखो भोला, तुम बहुत अच्छा चोदते हो ! अब मैं तुम से रोज चुदवाउंगी… तुझसे गान्ड भी मरवाउंगी…

वो बोला- हमारे दो दोस्त हैं, उनको भी आप मजा दोगी….?

मैंने उसे शान्त करने के लिये उसे हाँ बोल दी.. मुझे क्या पता कि सही में ऐसा होगा……. फ़िर वो मेरे होंठों पर अपना लन्ड घुमा कर चला गया…

वो मेरी किस्मत वाली रात थी, मैंने पाँच बार चुदवाया…….. दो लन्ड मुझे मिले……

सुबह के नौ बजे मैं बेड से मुश्किल से खड़ी होकर नहाने के लिए बाथरूम गई, पूरी नंगी होकर नहा रही थी। मेरा हाथ मेरी चूत पर गया, देखा कि अभी भी चूत खुली हुई थी, मुझे रात की पूरी कहानी याद आई। फ़िर मैं नहाने लग गई, जैसे ही मैंने साबुन लगाया, मेरी आँखें बन्द हो गई। इतने में मुझे लगा कि मेरे पीछे कोई आया है। इतने में तो उसने मेरे दोनों हाथ पकड़ लिये, मैंने महसूस किया कि उसका लन्ड मेरे कूल्हों के बीच टकरा रहा था, उसका लन्ड हाथ में आया तो मुझे पता चल गया कि यह भोला ही है। नौकर का लंड मेरी चूत को छुआ तो मेरी चूत भी अब पानी बहाने लगी। ये सेक्स कहानी,चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है। इतने में ही उसने मुझे गर्दन से पकड़ कर घोड़ी बना दिया, मेरे कूल्हे फैला कर मेरी चूत पर लण्ड रख दिया और मेरे गोलवे कस कर पकड़ लिये। फ़िर उसने मुझे अपनी ओर खींचा और मेरी तरफ जोर से धक्का लगाया। 

एक ही जटके में …. आ. ओ…ओ….. आआ आ….. सीसी….उउउ….अ…. पूरा लन्ड मेरी चूत में ……अब मुझे बहुत दर्द हो रहा था, मैं लन्ड अपनी चूत से बाहर निकालने की कोशिश कर रही थी, उसने मुझे कसकर पकड़ लिया और मुझे जोर जोर से चोदने लगा। मेरे मुँह से बस आ..अ… आआ…उ..उ… आवाज ही आती रही।पन्द्रह मिनट चोदने के बाद उसने लन्ड मेरी चूत से बाहर निकाल लिया, मुझे घुटनों के बल बैठा कए लन्ड मेरे मुँह में दे दिया। उसका इतना बडा लन्ड मुँह में जाने से मैं सांस भी नहीं ले पा रही थी। 

उसने मेरे मुँह में चोदना शुरु किया, मैं चूत से झड़ गई थी, फ़िर भी वो मुझे मुँह में चोदता रहा।ये सेक्स कहानी,चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है। इतने में ही उसने मेरे बाल कस कर पकड़ लिये और बोला- जोर से चूसो… जोर से…. और जोर से……उसके मुँह से आवाज निकल गई आ…आअ…..आअ..आआआ….. मेरा पूरा मुँह उसके माल से भर गया… मुँह में माल लेने का मेरा यह पहला अनुभव था, बहुत गर्म था उसका माल ! उस्का स्वाद भी बहुत अच्छा था। उसने मुझे पूरा नहलाया और उठा कर बिस्तर में लिटा दिया….और मैं सो गई……यह मेरी पहले दिन की चुदाई थी। उसके बात दूसरे दिन भोला से, थोड़े दिन बाद पति के दोस्त से, कुछ दिन बाद भोला और उसके दोस्तों से, दूधवाले से, अपने पति से मतलब मेरी चुदाई ही चुदाई…कैसी लगी मेरा रपे कहानी, अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर कोई मेरी चुदाई करना चाहते हैं तो उसे ऐड करो Lund ki bhukhi tadapti chut.

नौकर के साथ मेरी चुदाई की कहानियाँ

Desi xxx hindi sex stories, नौकर से चुदाई, Vidhwa hone ke baad naukar se chut ki khujli mitwayi, नौकर से चूत चुदवाया, Naukar ne choda xxx hindi story, नौकर का लंड से चुदी, Kamvasna sex story hindi, नौकर ने चोदा, xxx chudai, chudai kahani, hindi sex kahani, Desi kamasutra xxx story, विधवा होने के बाद नौकर से चूत की खुजली मिटवाई, नौकर से अपनी चूत को चुदवाया Hindi sex story, नौकर ने मेरी चूत को चोदा Sex Kahani, मेरी चूत में नौकर का लंड Sachchi kahani, नौकर से चूत की खुजली मिटवाई Antarvasna ki hindi sex stories, नौकर का 8" का लंड से खूब चुदी Hindi story, नौकर ने चूत की प्यास बुझाई Chudai Kahani, नौकर से चूत चटवाई, Naukar se chudwaya sachchi kahani, नौकर से गांड मरवाई, नौकर से चूत की प्यास बुझाई Mastram ki hindi sex stories,

मेरा चेहरा काफी सुन्दर और सेक्सी था, मैंने बहुत ही गोरी हु, थोड़ी मोटी तो हु, मेरा शरीर पूरा भरा पूरा है, मुझे सब लोग देख के नजरे नहीं हटाते है, मैं हमेशा हाल्फ स्लीव की और टाइट ब्लाउज पहनती हु, मेरी चूचियाँ बड़ी बड़ी और उभरी हुयी है, बहुत ही सुडौल है मेरा शरीर, जब मैं चलती हु, तो मेरी चूतड़ गजब की क़यामत कर देती है, मेरे पीछे चलने बाले हाय के अलावा और कुछ भी नहीं बोलते है..

मैं इधर उधर मुह मारने का मन बना ली, मैंने निऊहिंदीसेक्सस्टोरिज़ डॉट कॉम पे कहानियां पढ़ने लगी और कई लोगो से सेक्स सम्बन्ध भी बनाई, एक कहानी थी जो की एक औरत ड्राइवर के साथ सेक्स सम्बन्ध बनायी थी, उसके कॉमेंट में से मैं चार मर्दो को मेल की, और चुदवाई भी, पर आज जो मैं आपको जो कहानी बता रही हु वो मेरी पहली चुदाई है पति के गुजर जाने के बाद.मेरा मन रोज रात को चुदने का करता था, मैंने कुछ को व्हाट्सप्प पे दोस्त बनाई नंबर भी मैंने इसी वेबसाइट से ली, और चैटिंग सुरु हो गयी, सुरुआत में तो मुझे अच्छा लगा पर बाद में बहुत ही ख़राब होने लगा, क्यों की सारे कुत्ते मर्द उत्तेजित तो कर देते थे, मेरी चुत गीली हो जाती थी, ये सेक्स कहानी,चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।  

दूसरे साइड तो मूठ मार के अपना हवस को शांत कर लेते थे पर मैं प्यासी की प्यासी ही रह जाती थी, मुझे अब बुटीक में भी मन नहीं लगने लगा, क्यों की मेरे ख्याल में हमेशा सेक्स ही रहता था, एक दिन की बात है, मैं मैंने अपने मास्टर दरजी राहुल को बोली की मैं खाना खाके आती हु, तुम और पूनम देख लेना कोई ग्राहक आये तो, मैं १ घंटे बाद आउंगी, जैसे ही मैं अपना स्कूटी निकली और गई तभी मेरे एक क्लाइंट का फ़ोन आ गया,की कल जो आप सूट देने बाली थी उससे प्लीज आज ही कर दो क्यों की मैं रात को कही बाहर जाने बाली हु, तो मैंने सोची की पहले राहुल को बोल आती हु की सूट तैयार कर दे, वापस जैसे ही बुटीक पहुंची तो अंदर जाके देखि जहा पे सारे कपडे प्रेस होते है, निचे पूनम सोई थी और राहुल उससे चोद रहा था, मैं साइड में पड़े के पास छिप के देखने लगी, वो जोर जोर से झटके दे दे के चोद रहा था, झटका इतना जोर से देता था की पूनम की चूच उछाल रही थी, और मुह से हाय हाय हाय मार दिया रे मर दिया रे, फट गया मेरा चुत , मर जाउंगी मैं, फाड़ दिया मेरे चुत को, ये सब सुनकर और वो जैसे अपने शरीर को कर रही थी, मुझे भी चुदने का मन करने लगा.मेरा तन बदन में आग लग गया था, उसके बाद मै अंदर आ गई, वो दोनों खड़े हो गए पूनम कोने में बैठ गयी और अपने चूच को कपडे से ढकने लगी, ये सेक्स कहानी,चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है। 

और राहुल फटा फटा कपडे लेके वाशरूम में चला गया, मैंने कहा साली यही तुम्हे चुदवाने को मिला था, पता नहीं मेरे मुह से गाली निकलने लगा, क्यों की मैं पहले से सोच रही थी की राहुल से चुदवाउंगी पर उसपर कोई और हाथ फेर दिया था, तो पूनम बोलने लगी, मैडम अब नहीं होगा, गलती हो गई, मैंने कहा ठीक है आज तो तुम घर जाओ, नहीं तो और भी कुछ कह दूंगी.पूनम घर चली गई, तभी राहुल निकला, मैंने कहा मैं पुलिस बुलाऊंगी, तो राहुल मेरे पैरो पर गिर गया बोला मैडम मुझे छोड़ दो, गलती हो गयी है, आप जो कहोगे करेंगे पर पुलिस मत बुलाना, मैंने कहा मुझे भी वैसे ही चोदना पड़ेगा, राहुल एक दम मुझे घूरने लगा और बोला मैडम क्या कह रहे हो? 

मैंने कहा मैं वही कह रही हु जो तुमने सुना अगर नहीं सुना तो फिर सुन ले की मुझे भी वैसे हो चोदना पड़ेगा जैसे तुमने पूनम को चोदा था. इतना सुनते ही राहुल मेरे होठ को चूसने लगा और मेरी चूच को दबाने लगा, मैंने भी अपने आप को रोक नहीं पाई और अपना ब्लाउज का हुक खोल के चूची नौकर के मुह में दे दी, वो भी मेरे चूच को चूसने लगा और दबाने लगा, मैंने नौकर के जीन्स को खोल दी, और लण्ड को अपने हाथ में ले लिया.बैठ गई और लण्ड को चूसने लगी ऐसा लग रहा था की आज मैं नौकर के लण्ड को खा जाउंगी फिर क्या मैंने मै दरवाजा बंद की और लेट गयी, वो मेरे ऊपर चढ़ के अपना लण्ड का सुपाड़ा मेरे चुत के ऊपर रखा और अंदर पेल दिया, हाय क्या मोटा लण्ड था, वो तो जब झटके पे झटके देने लगा मैं तो बाप बाप चिलाने लगी, और गाली भी दे रहा था कह रहा था साली रंडी कहती है मुझे भी चोद ले बर्दास्त कर मेरा लण्ड.

वो जोर जोर से पेले जा रहा था, मैं भी काफी दिन से चुदाई का मजा नहीं ली थी मैं भी जोश में आ गयी और मैंने उसके सर को अपने चूची में सटा ली और बोली ले मादरचोद मर चुद्वाते हुए तेरी सांस बंद कर दूंगी, और फिर ये सब भद्दी भद्दी गाली देते हुए दोनों का खल्लाश हो गया और फिर थोड़े देर तक लेटे रहे.अब फिर क्या था, मैं सारी मान मर्यादा को भूल गयी और फिर मेरे यहाँ जितने भी दरजी आते गया मैं सब से चुद्वाते गयी, आज कल मुझे किसी चीज की कमी नहीं है ना तो पैसे की ना तो चुदाई की बस मांग में सिन्दूर नहीं है.कैसी लगी नौकर के साथ सेक्स की स्टोरी,अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो ऐड करो Lund ki bhukhi vidhwa chut.

Naukar se chudai karwai akeli ghar me

Real sex story - Naukar se chudwaya, naukar se pyas bujhai, naukar ka lund chut me liya, नौकर और मालकिन की चुदाई Desi xxx kahani, नौकर से अपनी चूत को चुदवाया Hindi sex story, नौकर ने मेरी चूत को चोदा Sex Kahani, मेरी चूत में नौकर का लंड Sachchi kahani, नौकर से चूत की खुजली मिटवाई Antarvasna ki hindi sex stories, नौकर का 8" का लंड से खूब चुदी Hindi story, नौकर ने चूत की प्यास बुझाई Chudai Kahani, नौकर से चूत चटवाई, Naukar se chudwaya sachchi kahani, नौकर से गांड मरवाई, नौकर से चूत की प्यास बुझाई Mastram ki hindi sex stories, naukar ka gadhe jaise lund se chut ki pyas bujhai, naukar ka virya se meri chut bhar gayi, chod chod ke naukar ne mujhe khus kar diya, chudai ke liye naukar ka gulam bani,

maine apne 36 30 34 sexy badan pe saree dali hui thi aur mera blouse low neck ka tha. tabhi door bell baji aur maine khola to dekha ki mohan khada hua tha aur bola madam mai mohan mai use andar le ayee aur uski nazar mere chuchiyo pe hi thi. maine dekha ki wo thoda jhijhak raha tha. main use sabhi kaam samjha rahi thi tabhi jhuk ke maine hoover uthakar batane lagi aur mera pallu neeche gor gaya aur mere 36 breast adhe bahar nazar aane lage. wo unhe ghoor ke dekh raha tha.

Wo chala gaya aur ab jab raaj office me hote the tabhi wo ata tha aur meri body ko dekhte dekhte kaam kiya karta tha. mujhe shuru se hi porn dekhne ki adat thi kabhi kabhi raaj ke sath bhi dekhti thi. ek baar maine skirt  dali thi aur uske uper short top tha. mai porn dekh rahi thi room me aur skirt uper karke apni choot ko masal rahi thi tabhi wo aa gaya andar aur ekdam se mera pani nikal ayaa but maine skirt neeche kar di aur kuch bunde skirt pe girgayee. usne dekha aur chala gaya.Ek din maine lawn me ghum rahi thi saree pehni thi maine aur main ahmesha se low neck blouse hi pehnti hoo.

tabhi maine dekha ki mohan bathroom me shu shu kar raha tha aur maine uska 8 inch ka lund dekha aur man hi man uchal pati ka mushkil se 6 inch ka ho pata hai. phir mai achanak udhar gaye aur wo ghabarakar use chupane laga. phir main use apne sath room me le gaye aur boli ki tum jan boojhkar door khola tha ki main dekh loo wo bolne laga ki nahi madam maine socha aap andar hongi. khair maine dhokhe se apna pallu gira diya aur bola ki apne kapde utaro wo muskura diy aaur nanga ho gaya. mai uske lund ko sahlane lagi.ye sexy kahani chudaikahanisite.com pe padh rahe hai.Uska lundo mota aur kala tha. usne mera saree aur blous utar diya aur bed pe lita kar choomne lagay aur ek haath se petticoat bhi utar diya mine panty nahi dali thi. ek ungli mere andar daal kar choot me ghumane laga main dheere dheere awaj karne lagi wo bola madam aapki to abhi bhi tight hai maine bola mohan tum dheeli kar do. 

usne bra ke hook khol diye. ab main uske samne ekdam nangi thi. wo mero chuchiyo ko chusne laga aur kaat bhi leta tha.Maine bola ki mohan araam se karo poora din hai apne paas. phir maine naukar ka gadhe jaise lund lekar chusne lagi aur 10 mint tak chusne ke baad sara pani mere muh me le liya aur pi gaye. phir hum lipat ke lete rahe thodi der baad phir uska lund tight ho gaya tha is baar usne mujhe litaya aur meri tang phaila kar apna lund meri chut pe rakh diya aur dhakke marne laga main chill padi ki aaaahhhhhh mohaan aaram se dalo. phir wo bola madam kuch nahi hoga sa theek ho jayega aur ek zor ka dhakk amara aue poora lund andar aa gaya main dard se tadap uthi. usne dhakke lagane chalu kiye aur bola mona madam badi mast ho aap. aur 20 miyunt tak humne chudai ki.

Usne sara pani andar hi daal diya. humne kapde pehne aur wo chala gaya. ab main ghr pe nangi bhi hoti hoo to wo sara kaam karta hai aur hum chudaibhi karte hai. jab pti raat me shift pe hote hai to wo atta hai aur hum sote hai.kaisi lagi naukar se meri chut ki chudai, ascha lage to share karo .. agar kisine meri kamsin chut ki pyas bujhana chahte ho to add karo > Bada lund ki pyasi aurat.
© Copyright 2013-2019 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM