Bhai ne galti se behan ko choda biwi samajhkar

Galti se behan ki chudai xxx real hindi story, Andhere me galti se behan ko choda, Biwi samjhkar behan ki chut me lund ghusa diya, गलती से बहन को चोदा Real kahani, Galti se behan ne mujhse chud gayi, behan ki boobs chus chus kar choot me ungli dala, raat bhar behan ki chut mari, behan ki tight gand mari, chod chod kar behan ki gand faad diya, 8" ka lund se avivahit behan ki chut phadi, बहन को नंगा करके चोदा, बहन की चूचियों को चूसा, बहन की चूत चाटी, बहन को घोड़ी बना के चोदा, 8" का लंड से बहन की चूत फाड़ी, बहन की गांड मारी, खड़े खड़े बहन को चोदा, बहन की चूत को ठोका.

Abh kahani ashli kahani suno.bhabhi ke sath meri najayez sex sambandh tha.bhaiya ka lund chota tha aur nakam tha isliya bhabhi ne mujhse chudwaya. Roz raat main jab saab nind me chala jate hai tabh suru hota hai bhabhi ke sath meri sex ki rasleela.Ek diwali main hamare ghar ki sab log bhabhi ki mai ke ghar gaya tha. meri behan komal bhi the.uski saadi ki baatchit ho raha tha.isliya waha jana pada.nayi damad ko dikhane ke liye kav bhabhi apni saari meri behan ko padayi thi pata nahee tha.raat main saab nind me the.aur mein rox ki tarha bhabhi ki chut ki khuli saant karne liya bhabhi ki room me gaya..

dekha ki bhabhi nind mein hai.main chup chap bhabhi samajh kar meri behan ko pakad liya.aur bola bhabhi aaj mera lund bohut tadap raha hai .mujhe bhi shadhi karwa do.lekin behan jaag gayi aur chup chap sunta rahi.wo kuch bol nahee pa rahi thi.agar ye saab jaangaya to behan ko aur bhabhi ko bhi badnami ho jayega.main adhero mein.bhabhi samajh kar behan ki boobs ko pakad liya.behan ki kacchi boobs tight laag raha tha.maine bola bhabhi keya baat hai aaj tumhra boobs itni tight laagrahi hai? wo chup chap the.maine boobs ko daba rahatha phir bra se kholkar ek boobs ki nipple muh me leliya aur dsusre ko dabane laga.. chudai kahani aap chudaikahanisite.com pe padh rahe hai.meri behan siskariya dene lagi ahhhhhhh aur uski saase garam hone lagi.usdin main thora saraab bhi piya tha.isliya mere dimag bhi thik se kaam nahee kaar raha tha.main behan ko doodh peete peete behan ki thenge ke bich chut me haath pharne laga.behan ki chut apni chut ras se pani pani ho gayi thi.maine ek ungli chut ke andar ghusa diya wo uhhhh kar uthi.wo kuwari thi isliya chut me dard ho rahi thi.maine bola bhabhi keya baat hai aaj to tumhara chut bhi tight ho gayi hai. khub masti hogi.ye bolkar boobs chus chuste chut me ungli kaar raha tha aur so badi badi saase le rahi thi.phir main behan ki do thenge ke bich agaya aur chut me jibh daal diya. jib se chus raha tha aur chat chat kar behan ki chut ras pee raha tha.wo pagolon ki tarha chatfatane lagi aur meri saar ko apni chut me chikhkar dabane lagi.phir maine apna 8 inch ka lund ka topi chut ki ched me set karke ek jorse dhakka mara to potas karke awaz nikala ayr mera lund pura ki pura behan ki chut me chala gaya aur meri behan ek chillani mari uii ahhhhhhhhhh uuuuuhh.

saraab ka nasha chad gaya tha.main jor jor se lund agye piche karne laga.. thodi der ke baad behan ko bhi maza aney lagi dard kam hone lagi.wo bhi gand utha utha kar chudwane lagi.puchhhh pochhh ahhh uuuuhh sirf sex ki awaz nikal raha tha.aap log jante hi honge ki saraab pine ke baad sex mein jhadne mein bohut time lagta hai.main jor jor se chod raha tha. aur meri behan bich mein 4/5 baar jhad chuki thi.lekin wo saram ke karan chup rahi. phir main behan ko ghodi banaya aur piseche behan ki chutad ko pakad ke chut me ungli dala aur chut ras mere lund me alagay aur behan ki gand me bhi phir mera lund ka topi behan ki gand me thoda ghusa kar r ek jorse dhakka mara phir se wo chilla uthi ahhhh uuuuuuhh .. aur mera lund bhi gand me ghus gaya aur main jor jor se chodne laga.. aise hi 45 min taak behan ki chut aur gand ki chudai ke baad behan ki gand me hi main jhad gaya..phir main tired ho kar nanga hi sogaya tha.2/3 ghante ke baad bhabhi aayii aur mujhe nind se jagaya aur boli keya baat hai devar ji aaj tum agye agye aak chuke ho aur nanga so raha ho ? chudai kahani aap chudaikahanisite.com pe padh rahe hai.aaj lund me khujli jada hai keya?aao chodo mujhe, aabh saab nind mein hai tumhraha bhaiya aaj mujhe jungleme le gaye the aur waha mujhe chodne ki koshis ki lekin do mint mein hi jhad gaya .meri chut me khujli ho rahi hai lo apni rendi behan ki chut ko sant kardo.. taabh meri dimag main kaam kaar raha tha ki to mai is 1 ghanta taak kisko choda tha?maine pucha tumhara bed room mein kon the. taabh bhabhi boli kyeu komal the . taad mujhe samajh mein aya ki main bhabhi samajh kar behan ko chod diya. phir main usraat bhabhi ko phirse choda. aur usdin ke baad behan ke sath bhi free ho gaya tha. jab jisko maan karte hai sirf chudai karta hu. to friends kaisi lagi behan ki chudai kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine meri behan ki choot chudai karna chahte ho to add comment karo.

Bhai ne mujhe chod raha tha aur main nind ka natak kar rahi thi

Hindi xxx chudai kahani, Raat me bhai ne mujhe choda, Nind ka natak kar ke bhai se chudwaya, Bhai ne mujhe chupke se chod raha tha aur main garhi nind ka natak kar rahi thi, भाई बहन की चुदाई कहानियाँ, Hindi sex stories, अपने भाई से चुदवाया Antarvasna ki hindi sex kahani, अपने भाई ने मुझे चोदा Xxx Kahani, रात में सोते हुए भाई ने मेरी चूत में लंड पेल दिया Real Kahani, अपने भाई का लंड से चूत की प्यास बुझाई Chudai Kahani, अपने भाई से चूत चटवाई, अपने भाई को दूध पिलाई, अपने भाई से गांड मरवाई, अपने भाई ने मुझे नंगा करके चोदा, अपने भाई ने मेरी चूत और गांड दोनों को मारा, अपने भाई ने मेरी चूत को चाटा, अपने भाई ने मेरी चूचियों को चूसा और अपने भाई ने मेरी चूत फाड़ दी,

Hello dosto, mera naam shikha hai. main aaj pahli baar is site par story likh rahi hun or aaj main bahut himmat karke jivan ka sach likhne ja rahi hun. Main shikha 18 saal ki hun or ekdum bharpur husn ki malkin hun. Mera rang halka sanwla hai. hamare mohalle ke ladke mujhe dekhkar apne lund par hath fernelagte hai, mera figure 36-27-38 hai. maine pahle apne boyfriend ke sath sex ke khub maje liye hai, lekin phir wo padhai karne ke liye bahar chala gaya or ab main yahan akeli rah gayi hun. Kher ye to mera parichay tha. Meri family mai hum 4 log hai papa, maa, bada bhai (pankaj) or main.Ye story meri or mere bhai ke bich ki hai. main collage mai 1st year mai padhti hun or mera bada bhai umra 21 saal hai or wo 3rd year ka student hai, wo dikhne mai ekdum mast hai or acchi body hai. uski height  5 foot 6 inch hai. hum dono ka common room hai. hum aapas mai bahut ladai karte rahte hai or ek dusre ko chidhate rahte hai maa bhi hume dantati rahti hai.

Phir ek din mai collage se let ho gayi or jab ghar aayi to bhai puchhne laga ki kaha gayi thi? To maine kaha ki friends ke sath thi. Phir wo ladne laga to main bhi chilla padi to usne mujh par hamla kar diya or mujhko pakadkar niche gira diya. Phir maine bhi ulta jawab diya or use gira diya or uske pet ke upar baith gayi, us time shayad uska lund khada ho gaya tha or meri gaand ki darar mai chubhne laga tha to main samajh gayi thi, lekin mera hatne ka man nahi kar raha tha or ye baat shayad bhai bhi samajh gaya tha.Phir usne mujhe dhakka diya to main niche gir gayi or wo mere upar aa gaya, mere per khule hone ki wajah se uska lund mujhe sidha chut par mahsus hone laga, to main jhat se use dhakelkar wahan se jane lagi. Jab maine pichhe mudkar dekha to bhai ki pent mai bahut mota sa hissa ubhra hua tha, main soch mai pad gayi ki bhai ka lund kitna bada hoga? Yeh sex kahani chudaikahanisite.com pe padh rahe hai.Us din maine bathroom mai jakar apni penty utaari to usme se dher sara pani nikala, main soch mai pad gayi ki apne sage bhai ko touch karte hi mujhe aaj kya ho gaya hai? or mujhe khud par sharm bhi aa rahi thi or wo pal yaad karke maja bhi aa raha tha. Us din mujhe bahut khujli hui, lekin maine us khujli ko apni chut  mai ungali se shant kar liya. Phir maine soch liya ki main bhai ko garm karke dekhungi agar ho gaya to ghar ki baat ghar mai rahegi or khujli bhi mit jayegi.Ab main bhai ke samne chhote chhote kapde pahanne lagi or use apne 36 size ke boobs bhi dikhane lag gayi. Wo bhi mujhe gor se dekhta tha, lekin aise bartav karta tha jaise usne kuch na dekha ho. Main apni moti gaand matkati thi or uske samne janbujh kar aise chalti thi. Ek din maa papa ek haft eke liye chhutti manane Shimla chale gaye or hum dono pariksha ki wajah se delhi mai hi rah gaye.

Ye mere liye ek golden chance tha, maine iske liye ek plan banaya or usi ke mutabik raat ko chhat se aate waqt mai sidhiyon se fisal gayi or jor jor se chillakar rone lagi.Phir pankaj dodta hua aaya or mujhe uthakar puchhne laga ki kahi chot to nahi lagi. To maine bataya ki ghutne or kamar mai mocha a gayi hai, to wo doctor ke paas jane ke liye kahne laga, lekin mujhse utha nahi gaya to maine kaha ki aise hi thik ho jayega. Phir usne mujhe dard ki goli di or mujhe sula diya, lekin rat ko 10 baje meri aankh khuli to maine bhai ko bulaya or use malish karne ke liye kaha to usne haan kar diya or kitchen mai tel lene chala gaya.Maine use din suit or khuli wali salwar pahan rakhi thi. Phir maine kaha ki mere ghutne or kamar ki malish kar de to wo aakar mere paas baith gaya. phir maine apni salwar ko ghutne ke upar tak utha liya or bhai malish karne laga to mujhe bahut maja aane laga. Phir maine kaha bhai thoda or upar tak kar. Phir wo apna hath meri jangh tak lakar malish karne laga, maine jab tirchhi najaro se dekha to wo meri gaand ko ghur raha tha or uske pajama mai bahut mota tent bana hua tha. Meri to chut tapakne lagi thi.Yeh sex kahani ichudaikahanisite.com pe padh rahe hai.Phir main upar kamar karke let gayi or use kamar ki massage karne ke liye kaha to wo turant bol pada ki uske kapde gande ho jayenge. To maine kaha ki bhai pajama ko utaar de or phir malish kar. To usne sunte hi apna pajama hata diya or mere paas aa gaya. phir maine apna suit or bra strips tak hata liya or use ishara kiya. Wo to jaise is pal ke liye tadap raha tha. Phir apne hath mai tel lekar meri kamar par malne laga to mere muh se aahhhh nikal gayi. To usne puchha ki kya hua? Phir maine kaha ki aaram mil raha hai, bhai aise hi kar. Phir wo apna hath meri bra tak lane laga or kahne laga ki shikha teri ye atak rahi hai.
Main : kya bhai?
Pankaj : ye baniyan.
Main : ise baniyan nahi kahte hai.
Pankaj : to kya kahte hai?
Main : bhai ise bra kahte hai.
Pankaj : to ye malish karne mai atak rahi hai.
Phir maine use hata diya or use lagatar malish karne ka ishara kiya. Phir wo mere kulho ko touch karne laga gaya or upar mere boobs par ungaliyan lagane laga.
Main : bhai thoda bich mai kamar par karo, aaram mil raha hai.
Pankaj : mujhse aise nahi ho raha, uske liye teri kamar ke dono taraf per rakhne padenge.
Main : (kuch sochte hue) to rakh lo.

Phir usne apne dono per meri kamar ke dono taraf rakh liye or malish karne laga. Aahhhh bahut aaram mil raha hai bhai, aise hi karo. Phir wo mere kulho par baith gaya or uska lund meri moti gaand mai atakne laga, main to jaise mar rahi thi. Mera man kar raha tha ki wo abhi apna lund meri chut mai pel de or khub chode, lekin aisa nahi ho sakta tha. Wo apna hath upae se lekar niche meri gaand tak lata tha or jab hath upar jata to uska lund meri salwar mai se andar ghusa ja raha tha.Yeh sex kahani chudaikahanisite.com pe padh rahe hai.Usne apne lund ko shayad meri gaand ke chhed par set kar diya tha or halka halka push karne laga tha. Phir maine apni gaand ko thoda or upar utha liya to bhai ka lund meri salwar ke upar se chut ko touch hone laga or aahhh ke sath mai jhad gayi, meri chut fadakne lagi thi or pankaj ke lund ko bhi golepan ka eehsas hone laga tha. Phir meeri aankhe thodi der ke liye band ho gayi or main so gayi, phir mujhe soti dekh bhai bhi chala gaya. phir agle din bhai mere liye chay lekar aaya or mujhe dekhkar muskurane laga. Phir wo chay dekar collage chala gaya or sham ko ghar aaya or mujhe to wo hotel se khana laya tha, usne mujhe uthakar khana khilaya or puchha ki ab dard kaisa hai? to maine kaha ki kal ki malish se bahut aaram mila hai.
Pankahj : thik hai. main aaj bhi malish kar dunga or sara dard thik ho jayega.
Main : thik hai bhai.

Phir baat hui or maine jan bujh kar aaj ghutno tak ki lambai ki skirt pahni or upar top pahna or andar maine bra or penty nahi pahne. Phir wo raat ko 10.30 baje room mai aaya, to maine dard ka natak kiya or use malish karne ke liye kaha to wo turant katori mai tel le aaya.

Aaj usne short or upar baniyan pahan rakhi thi, uska lund aaj alag hi shape mai dikh raha tha, shayad usne bhi aaj andar underwear nahi pahna tha. Phir wo mere ghutne ki malish karne laga or main pet ke bal let gayi or phir wo meri skirt ko dhire dhire upar karne laga or malish karne laga. Main phir sse tadapne lagi. Ab meri moti gaand ka ubhar dikhna shuru ho gaya tha. Phir maine jab uski taraf dekha to wo meri gaand ko lalchai najaro se dekh raha tha.Yeh sex kahani chudaikahanisite.com pe padh rahe hai.Phir maine apni aankhe band kar li or halke halke se karahne lagi, ab uski ungaliyan mere kulho ki line ko chhune lagi thi. Use pata chal gaya tha ki maine penty nahi pahni hai. ab phir maine use apni kamar ki malish karne ko kaha to usne mera top upar kar diya, wo bhi meri gardan tak or ab top sirf mere boobs mai atka hua tha. Phir bhai puri kamar par hath ferne laga or niche meri skirt ko bhi niche sarkakar gaand ko chhune laga, achanak se light chali gayi or pure kamre mai andhera ho gaya.
Pankaj : mombatti jala dun kya?

Main : nahi rahne do bhai, waise bhi malish hi to karni hai to aise hi kar do.

Ab wo meri kamar ke dono taraf per rakhkar baith gaya or puri kamar ko apne hatho se malish karne laga. Wo aaj mere kulho ke thoda niche baith gaya or dhire dhire upar hone laga, uska lund ab meri skirt ke upar se sidha meri chut ko khatkhatane laga. Phir maine apne kulho ko thoda upar ki taraf uchhal diya or maje lene lagi, bhai ke bar bar upar niche hone se meri skirt upar hone lagi or meri puri gaand nangi ho gayi. Ab to mujhse sahan karna mushkil ho raha tha or shayad bhai se bhi sahan karna mushkil ho gaya tha, phir uske muh se bhi ek halki si aahhh nikali.

Phir maine mahsus kiya ki ab wo sirf ek hath se meri gaand or chuchiyon ko chhu raha hai. main soch mai pad gayi ki iska dusra hath kaha hai, achanak hi mujhe kuch garm hard or mota sa apni gaand par mahsus hua mere to tote ud gaye the. Mujhe samajhne mai der nahi lagi ki pankaj ka dusra hath kaha tha or meri gaand par kya touch ho raha hai? phir usne apna lund shayad bahar nikal liya tha, meri to kapkapi chhut gayi thi, lekin bahut jyada aanand bhi aa raha tha. Andhere mai kuch dikh to nahi raha tha, lekin touch hone se ye pata chal raha tha ki uska lund bahut takatwar or lamba mota hai. kher main aise hi leti rahi or uska lund ab meri gaand ke chhed ko touch kar raha tha or aisa lag raha tha jaise abhi andar ghus ke meri gaand hi faad dega.

Phir maine apni gaand ko thoda upar kiya to uska lund chut ke chhed par touch hone laga or hum dono ke ang aapas mai mil gaye. Aaahhh wo kya ahsas tha? Jaise hi uska lund meri chut par touch hua, usne wahi set kar diya or ab sirf uska upar ka hissa ud raha tha or niche ka ek jagah hi tha. Phir maine kaha ki bhai thoda upar kandho tak malish karo to ab jab wo apne hatho ko upar tak laya to uske lund ka pressure meri chut par badhne laga or halka sa push hone laga, jaise hi usne dobara upar ki taraf hath kiye to uska lund phir aage ki taraf hua or tabhi maine bhi apni gaand ko niche ki taraf dhakka diya. Aahhhmmmmm mujhe halki halki maun aane lagi thi, uska mota supda aadha mere andar ja chukka tha.Ab hum dono hi aise bartav kar rahe the jaise kisi ko kuch nahi pata ho. Tisri baar phir aisa hi hua or mujhse ruka nahi gaya or is baar thoda jor se gaand ko uske lund par patak diya or ekdum se uska lund chiknai ki wajah se 3 inch andar chala gaya.Yeh sex kahani chudaikahanisite.com pe padh rahe hai.Ab bhi hum dono halki halki maun kar rahe the aise hi dhire dhire uska 7 inch ka pura lund meri chut mai sama gaya. phir maine apni gaand ko hawa mai utha liya or phir wo ab dhire dhire andar bahar karne lag gaya. aaahhhhh uuooooo  maaamamamaaaa mmmmmmm aaaaahhhh ooo hmmmmmmmm mmmmmmh. Phir mere muh se aawaje aane lagi to bhai samajh gaya ki mujhe maja aane laga hai. ab usne dhakko ki speed tez kar di or meri gaand par thap thap thap ki aawaj aane lagi or andhere mai room mai gunjane lagi. Main ab tez tez maun karne lagi thi, aaahhaahhh aaammmm uuuooooo or tez uyyyyyiiiii yaaaaaa. Phri maine apne hath pichhe le jakar bhai ke kulho par rakh diye or apni taraf push karne lagi mmmm. Wo bhi tabadtod dhakke lagane laga mmmmmaaaahhh or phir hum dono ne pani chhod diya, itna maja mujhe aaj tak nahi aaya. Ab hum rojana sex karke maje lete hai. Friends kaisi lagi meri sex kahani, ascha lage to share karo... agar koi meri kamsin rasili chut ki chudai karna chahte ho to add karo Lund ki pyasi ladki.

भाई बहन की सेक्स कहानियाँ

हिंदी सेक्स कहानियाँ - Bhai behan ki sex stories, चुदाई की कहानियाँ - Bhai behan ki sex xxx desi kahani, अपने भाई से चुदवाया Antarvasna ki hindi sex kahani, अपने भाई ने मुझे चोदा hindi story, रात में सोते हुए भाई ने मेरी चूत में लंड पेल दिया real story, अपने भाई के लंड से चूत की प्यास बुझाई, Bhai ne behan ko choda, अपने भाई से चूत चटवाई, Behan ne apne bhai se chudwaya, अपने भाई को दूध पिलाई, अपने भाई से गांड मरवाई, अपने भाई ने मुझे नंगा करके चोदा, अपने भाई ने मेरी चूत और गांड दोनों को मारा, अपने भाई ने मेरी चूत को चाटा, अपने भाई ने मेरी चूचियों को चूसा और अपने भाई ने मेरी चूत फाड़ दी,

मैं 19 साल की हु और मेरा भाई मुझसे बड़ा है, मेरा नाम रूचि है, रूचि अग्रवाल, मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ती हु, मेरा भाई योगेश बहुत ही अच्छा लड़का है, हमदोनो बचपन से ही एकसाथ रहते खेलते है, अगर कोई हम दोनों को बाहर भी देख ले तो उससे कभी ये नहीं लगेगा की हम दोनों भाई बहन है उन्हें लगेगा की हम दोनों दोस्त है, हम दोनों बहुत ही खुले विचार के है, एक दूसरे की भावना को समझते है और एक दूसरे की प्रॉब्लम को सुनते है और ठीक करने की कोशिश भी करते है,

हमें नहीं लगता है की कोई बात हमने आजतक अपने भाई से छुपाई है. अब मैं कहानी पे आती हु. एक दिन मेरे मम्मी और पापा दोनों एक रिश्तेदार की शादी में गए थे, घर में हम दोनों भाई बहन ही थे, हम दोनों आपस में मस्ती करने लगे, मैं उसके पेट में गुदगुदी कर दी वो भी मेरे पेट में गुदगुदी कर दिया, मैंने उसके गाल को पकड़ के खीच लिया उसने भी मेरे गाल को पकड़ के खीच लिया, ये खींचतान बढ़ता गया, और फिर हम दोनों घर में इधर उधर भागने लगे और एक दूसरे को चिढ़ाने लगे गुदगुदी करने लगे, और हम दोनों जोर जोर से है रहे थे, अचानक मैंने अपने भाई के लंड को पकड़ लिया, मैं जानबूझ कर नहीं पकड़ी थी गलती से पकड़ा गया. तभी मेरा भाई मेरे तरफ दौड़ा और कहने लगा अच्छा तो तुम यहाँ तक पहुंच गयी और वो मेरे पीछे भगा और कहने लगा मैं भी नहीं छोड़ँगा,यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मैं भागी और किचन में जाके के दरवाजा अंदर से लगाने लगी, पर वो धक्के दे के खोल दिया, तब मैं कहने लगी, भाई गलती से छु गया मैंने जान के नहीं किया मुझे छोड़ दो प्लीज, पर वो कह रहा था मैं सब समझ रहा हु, गलती से छु गया!!! और वो मेरे पास पहुंच गया, वो मेरी चूचियों को छूने लगा, मैं बैठ गयी और अपने घुटनो से अपने चूचियाँ को दबा ली, और ऊपर से हाथ से पर मेरा भाई मेरे पीछे से मेरी चूचियों को किसी तरह से पकड़ लिया और दाबने लगा और कह रहा था देख तूने छुआ और मैं भी तुम्हे छु लिया,बात खत्म.पर जब मेरी चुचिओं को दबा रहा था उसका लंड मेरे पीठ को टच कर रहा था, मोटा सा कडा सा मुझे भी कुछ होने लगा था और अब मैं उसके पीछे भागी, और फिर वो भाग के बैडरूम में पहुंच गया, मैं वह जाके उसका लंड अब पूरी अच्छी तरीके से पकड़ ली, जैसे भी मैं उसका लंड पकड़ा वो तो बड़ा होने लगा और मेरा भाई चुपचाप खड़ा हो गया, और उसका लंड मोटा होने लगा, मैं भी अपने हाथ में बड़ा होते लंड को महसूस कर रही थी, फिर क्या था, मेरे तो रोम रोम खिल गया, मैंने अपने भाई से कहा क्या मैं अंदर से पकड़ लू, वो कुछ भी नहीं बोला.मैं उसके ट्रैक सूट के अंदर हाथ डाल के उसके लंड को पकड़ लिया, उसने भी मेरे टी शर्ट के अंदर हाथ डाल के मेरी चूचियों को पकड़ लिया.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर वो मेरा टी शर्ट खोल दिया, मैं ब्रा में थी और निचे स्कर्ट पहनी थी, उसने मेरी ब्रा को खोले लगा पर हुक उससे खुल नहीं रहा था, मैंने मदद की और हुक खोल की अपनी चूचियाँ उसके हवाले कर दिया, वो तो क्या बताऊँ दोस्तों वो तो टूट पड़ा, और भाई ने मेरी निप्पल को पिने लगा, अब तो मेरी चूचियाँ दबा रहा था, और पि रहा था, उसने कहा कुछ भी नहीं निकल रहा है, तो मैंने कहा तुम पि यहाँ रहा है पर पानी तो मेरे चूत से निकल रहा है.

इतना सुनते ही वो मेरे स्कर्ट को खीच के निकाल दिया और पेंटी को भी खोल दिया और निचे आके मेरे चूत को देखने की कोशिश करने लगा, फिर मैंने बेड पे जाके लेट गयी ताकि मेरे भाई को कोई दिक्कत ना हो, वो करीब आके मेरे जांघों को अलग अलग दिया और फिर भाई ने अपनी जीभ से मेरी चूत को चाटने लगा, अब मैं उसके बाल को पकड़ के खीच खीच के अपनी चूत में सटाए जा रही थी, मैंने कहा भाई मुझे क्यों तड़पा रहे हो मैं भी तुम्हारे लंड को अपने मुह में लेना चाहती हु, वो फिर 69 के पोजीशन में आ गया अब मैं उसके लंड को अपने मुह में ले ली और वो मेरी चूत को चाटने लगा. क्या बताऊँ दोस्तों मजा आ गया बार बार मैं अपने चूत का पानी छोड़ रही रही वो चूत की नमकीन पानी को चाट चाट कर मस्त हुए जा रहा था,फिर वो मेरे तरफ आके मेरी होठ को चूसने लगा, यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।और अपने हाथो से मेरी चूचियों को दबाने लगा, मैंने खुद ही अपना पैर फैला दी और बोली अब लंड डाल मेरी चूत में, उसने लंड को मेरी चूत पे लगाया और एक झटका दिया पर लंड मेरी चिकनी चूत से फिसला गया मैंने कहा क्या कर रहे हो भाई ठीक से करो ना, फिर मैं भी हेल्प की उसका लंड पकड़ के अपनी चूत की छोटी छेद पर रखी और बोली की धीरे धीरे डालना,पर वो बहनचोद उतावला हो रहा था एक ही झटके में मेरा चूत का सत्यानाश कर दिया था, चूत से खून निकलने लगा, मैंने कहा ये क्या कर दिया, तो मेरा भाई बोला चिंता नहीं कर मैंने कई जहाज पढ़ा है की पहली बार चुदाई में खून निकललता है, मैं भी चुप हो गयी.अब वो मुझे चोदने लगा मुझे काफी दर्द होते होते फिर कुछ देर बाद एक अजीब सा गुदगुदी और एहसास होने लगा, मैं पहली बार चुदने का मजा ले रही थी, मैं अपना चूच बार बार उसके मुह में दे रही थी मानो की वो एक छोटा बच्चा और वो मेरी चूच को भी पि रहा था और चोद भी रहा था, करीब ३० मिनट चोदने के बाद मेरा भाई झड़ गया और सार पानी मेरी चूत में ही छोड़ दिया, मैं इसके पहले ही दो बार झड़ चुकी थी. यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।रात बार वो मुझे आधे घंटे के अंतराल में चोदता रहा, मैं भी खूब मजे लेती रही, उसके बाद से तो ऐसा हो गया मानो की मैं अपने भाई की रखैल बन गयी हु, जब भी माँ पापा को घर में नहीं देखता वो मुझे चोदने लगता या तो जब मुझे चुदने का मन करता मैं उसे आकर्षित करती और वो फिर चोदने के लिए तैयार हो जाता. कैसी लगी हम डॉनो भाई बहन की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो अब जोड़ना Facebook.com/RuchiAgarwal.

चुपके से बहन की मैक्सी उठाकर चुदाई रात में

Desi xxx kahani - बड़ी बहन की चुदाई, Chupke se behan ki maxi uthakar chudai raat me, बड़ी बहन को चोदा Real Sex Story, मैक्सी उठाकर बहन की चूत में लंड पेल दिया, Bhai behan ki sex hot xxx kahani, बहन की चूचियों को चूसा, Raat me sote huye badi behan ki chut me lund ghusa diya, शादीशुदा बड़ी बहन की प्यास बुझाई Mastram ki sex kahani, बहन के साथ चुदाई की कहानी, hindi sex kahani, बहन के साथ सेक्स की कहानी, behan ko choda xxx hindi story, जवान बहन की कामवासना xxx antavasna ki hindi sex stories, दीदी को घोड़ी बना के चोदा, 8" का लंड से बहन की चूत फाड़ी, बहन की गांड मारी, बहन की कुंवारी चूत को ठोका,

हम भाई बहन घर पर अकेले रह जाते थे. कुछ साल पहले तक तो आलिया कमसिन और नादान थी, पर जैसे जैसे हम दोनों बदने लगे, हमारे जिस्म, बदन, और मन में तरह तरह के परिवर्तन आते गए. मेरी लम्बाई बढ़ गयी. मैं अपने पापा जितना ६ फुट का लम्बा हो गया. उधर मेरी बहन जवान हो गयी. उसके बदन में बड़े परिवर्तन आ गए. एक तो उसकी लम्बाई बहुत बढ़ गयी.दूसरे अब उसका जिस्म थोडा भारी हो गया. उसकी छाती चौड़ी हो गयी. और उसके २ मस्त मस्त कबूतर जैसे मम्मे निकल आये. मैं तो दिन रात आलिया के सामने ही रहता था, इसलिए उसके बहन में हो रहें हर परिवर्तन को मैं भली भाति रिकॉर्ड कर रहा था. फिर कुछ दिनों बाद मुझको ब्लू फिल्मो और चुदाई के बारे में पता चल गया. अब मैं १५ या १६ साल का था, मैं रात में छिप छिप कर गंदी फिल्मे देखने लगा. मेरी बहन आलिया मेरे कमरे में ही सोती थी.

जब वो गहरी नींद में सोयी होती थी, तक मैं dvd प्लयेर पर गंदी फिल्मे लगाकर देखता था. उस समय आज की तरह लैपटॉप या स्मार्टफोन नही हुआ करते थे. सभी लोग डी वी डी में ही चुदाई की फिल्मे देखा करते थे. धीरे धीरे दोस्तों, मैं मुठ मारना भी सीख गया. मेरे हरामी दोस्तों, ने मुझे ये सिखा दिया.मेरे बहन मेरे कमरे में सोती रहती और मैं बत्ती बुझाकर मुठ मरता रहता. कई बार तो मन करता ही अपनी सगी बहन आलिया को चोद लूँ. फिर डरता की अगर अम्मी अब्बू को पता चला तो कितनी बेइज्जती होगी. वरना मेरा लौड़ा तो यही कहता की जब गर्म चूत तुम्हारे कमरे में मौजूद है तो मुठ क्यों मारते हो. अपनी बहन आलिया को चोद क्यूँ नही लेते. दिन गुजरते रहें, पर मैं अपनी बहन को चोद नही पाया. क्यूंकि मैं डरता बहुत था. मेरी गाड़ बहुत फटती थी. दोस्तों, एक दिन मेरी जवानी की दहलीज पर आ चुकी बहन सो रही थी. उस वक्त रात के १ बजे थे. पता नही क्यूँ मुझे उस रात नींद नही आ रही थी. सयद मैं दिन में सो लिया था. मैं आलिया की तरफ देखा तो उसका सूट एक दूसरी तरह भाग गया था. उसके मस्त स्तनों के दीदार मुझको हो रहें थे. मैं चुप चाप उठ बैठा. जब जब आलिया करवट लेती थी , उसके मस्त चूचों के दीदार मुझको हो जाते थे.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।ये जवानी , ये खुमारी देखकर मैं आप खो दिया. मेरा हाथ मेरी चड्ढी में चला गया. मैं लंड में फेटने लगा. जब तक मैं कुछ और सोचता आलिया से दूसरी ओर करवट ले ली. उसका मस्त पिछवाडा, उसकी बड़ी सी गोल गोल गांड मुझको दिख गयी. मैं उसके पास चला गया. उसके २ बड़े बड़े गोल गोल मटोल चूतडों को सहलाने लगा. आलिया सोती रही. मैं सहलाने के मजा लेता रहा. खुदा कसम दोस्तों, यही दिल कर रहा था की आज सब रिश्ते नाते भूल जाऊं. और अपनी बहन को चोद लूँ, इसको चोद चोद के अपनी रखेल, अपनी बीवी, अपनी रंडी बना लूँ,. पर मैं दुनिया से बड़ा खौफ खाता था. पर मैं अपनी बहन आलिया के दोनों मस्त गोल मटोल चूतडों को सहलाता रहा. डर भी लग रहा था की कहीं जब ना जाए. पर आलिया सोती रही. मेरी हिम्मत और बड़ी. कुछ मिनट बाद आलिया पलती और उसके दोनों चूचे फिर मेरे सामने आ गए. मैंने अब हाथ उसके चूतडों से उठाकर उसके सूट में डाल दिया. उसके दोनों सफ़ेद कबूतरों को हाथ में ले लिया और चुने सहलाने लगा.

बराबर डर लग रहा था कहीं आलिया जग ना जाए. पर वो नही जगी. मेरी हिम्मत और बढ़ी. मैं उसके दुधिया कबूतरों से खेलने लगा. हल्का हल्का दाबने लगा. खुछ देर बाद मेरा उसकी उसकी सलवार पर चला गया. मेरा हाथ उसकी बुर पर चला गया. सलवार के उपर से उसकी चड्ढी के अंडर उसकी बुर पर मैं हाथ रखा तो बड़ा गर्म गर्म लगा. आज पहली दफा मुझे पता चला की किसी लौंडिया की बुर कितनी गर्म होती है. मैं सलवर के उपर से उसकी चूत सहलाने लगा और आलिया जग गयी.
<भाईजान, ये क्या कर रहें हो?? आलिया बोली
दोस्तों, मेरी तो गांड फट गयी. मैं अँधेरे में अपने बिस्तर पर भागा पर पर आलिया से लाइट जला दी. मैं अपनी रजाई में घुस पर छिप पाता इससे पहले आलिया ने लाइट जला दी.
भाईजान साफ साफ बताओ वरना मैं जाकर अम्मी को इसके बारे में बता दूंगी?? आलिया बोली. मेरी तो गांड फट गयी. मेरे पैरों से जमीन खिसक गयी.
वो बहन! वो !! मैं ह्क्लाने लगा. मेरी समझ में नही आ रहा था की मैं आलिया से क्या कहूँ.
आलिया! मैं तुझको चोदना चाहता था! आखिर मैं सच सच कह दिया.
चोदना?? ये क्या बला है ?? आलिया से पूछा
चुदाई के बारे में मुझे अभी ही पता चला है. १ सेकंड रुक! मैंने कहा और दौडकर गया और मैंने टीवी में एक गन्दी चुदी चुदौवल वाली पिक्चर चलने लगी. आलिया आँख फाड़ कर चुदाई टीवी में देख रही थी. २ ३ दिन हम भाई बहन इसी तरह रात में अम्मी अब्बू से चिकपे चुदाई देखते थे. धीरे धीरे आलिया को ये गंदी पिक्चर देखने में मजा आने लगा. २ हफ्ते बीते हूंगे की हम भाई बहन जो लग भग लगभग एक ही उम्र के थे, साथ में चुदाई और ठुदाई की पिक्चर देखने लगे. ये सिलसिला कुछ महीने चला. आलिया ने मेरी वो वाली बात अम्मी अब्बू को नही बताई थी. इस पर मैं बहुत खुश था.भाईजान! हम भी चुदाई चुदाई खेले?? यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।एक दिन आलिया बोली हाँ हाँ मैंने कहा. दोस्तों, मैं तो अपनी बहन को पहले से ही चोदना चाहता था. अब मैं उसके पास चला गया और उसको चूमने चाटने लगा. मैं फिर से एक ठुकाई वाली फिल्म लगा दी. आलिया तो आज चुदाई ठुकाई खेलना चाहती ही थी.आलिया अपना सूट तो निकाल! मैं बोला.बहन आलिया ने सूट निकाल दिया. २ मासूम बेहद नरम गोले मेरे सामने आ गए. मैंने उसको बिस्तर पर लिटा दिया. अपनी बहन के मम्मो को हाथ में ले लिया. हाय , मेरी बहना इतनी जवान और खूबसूरत है. मैं सोचने लगा. कुछ देर तक मैं उनको हाथ में लेकर सहलाता रहा,

फिर मसलने लगा. बहुत ही नरम छातियाँ थी, बिलकुल मलाइ कोफ्ते थे. मैं उसको पीने लगा. २ पल के लिए लगा की मेरा बचपना लौट आया है, जब मैं छोटा था और अम्मी के दूध पीता था. मेरे दूध पीने से आलिया गर्म और चुदासी हो गयी. वो रम्भाने लगी. मैं जान गया की आज ये मजे से मुझे कह कहकर चूत देगी और किसी से कहेगी भी नही. मैंने जोर से अलिया के बाये मम्मे पर काट लिया. वो तड़प उठी. उसके स्तन पर मेरे दांत के निशाँन बन गए. फिर भी वो मुझसे अपना दूध पिलाती रही.मैं जोर जोर से अपनी बहन की छातियाँ दबाता चला गया और पीता गया. हम दोनों जन्नत में घूम रहे थे. अपनी जवानी की दहलीज पर आकर बहन को देखकर मुझे बहुत खुशी हो रही थी, अब मुझे चूत मारने के लिए कहीं और नही भटकना होगा. क्यूंकि चूत का इंतजाम तो मेरे कमरे में ही हो गया है.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मेरी बहन आलिया मेरी आँखों में आँख डाल के दे रही थी. बीच में वो आँख मार देती थी. में जान गया की रोज चुदाई देखता था, आज करने का मौका मिलेगा. आलिया ने अपनी सलवार निकाल दी. अभी पिछले हफ्ते ही अम्मी उसके लिए मिकी मोउस वाली चड्ढी लायी थी, आलिया ने इस वक्त वही पहन रखी थी. उसकी मिकी मोउस वाली चड्ढी के उपर से ही उसकी चूत की दरार दिखने लगी. मुझे तो अंगराई आ गयी दोस्तों. मैंने उसपर से २ ४ बार चूत की दरारों की छुआ और चूम लिया.कुछ देर तक सहलाता रहा. आलिया की चूत गीली होने लगी. वो अंगराई लेने लगी. कमर उथाने लगी. उसने मेरा हाथ पकड़ लिया. पर मैं नही माना और जवानी की दहलीज पर आ चुकी अपनी बहन की मिकी मोउस वाली चड्ढी को मैं लगातार सुपाड़ी की तरह घिसता रहा. खुच देर बाद मैं ये देख के हैरान था की आलिया की चूत उसी तरह पानी चोद रही थी जैसे सबजी का मसाला भुजने पर तेल छोड़ देता है. आलिया मेरे हाथ को रोकने की असफल कोसिस करती रही,

मैं उनकी चूत घिसता रहा. एक समय वो आया की आलिया बोलीभाईजान!! चोदना है तो अभी मुझे पटक के चोदो वरना दफा हो जाऊ, मेरी बुर इस तरह मत घिसो! वो बोली.मैं समझ गया की लोहा गरम है. हथोड़ा मार दो. मैंने आलिया की भीग चुकी और गीली हो चुकी चड्ढी को उतार दिया. उसकी टांगे खोल दी. उसकी बुर पीने लगा. अब मेरी जवान हो चुकी बहन की जवान चूत मेरे सामने थी. उसकी चूत के होंठ में शुरू में ३ लाइन बनी थी. २ लाइन किनारे से थी और बीच की लाइन उसकी बुर में जाती थी. मैं उस बीच वाली पीने को पीने लगा. आलिया मचल गयी, कमर उपर उठाने लगी. कुछ देर बाद मैं लौड़ा उसकी बुर पर लगा दिया. आलिया टीवी की उस ब्लू फिल्म को देखने लगी, मैं हच से धक्का मार दिया. आलिया की गांड फट गयी. २ सेकंड के लिए मैं अपना लंड बाहर निकाला तो देखा मेरे लंड के टोपे में उसकी कुंवारी बुर का गाढ़ा खून लग गया था. फिर मैंने लंड अंडर उसकी चूत में डाल दिया और धीरे धीरे अपनी जवान बहन को चोदने लगा.शुरू में वो आलिया को दर्द हुआ , पर जल्द ही उसको मजा मिलने लगा. यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।आधे घंटे बाद तो खुशी से मुझसे चुदवाने लगी. मैं धिच्चिक धिच्चिक करके अपनी बहन को पेलने लगा. आलिया मेरे सामने अपने दोनों हाथ और दोनों पैरों को खोल के लेती थी. हम दोनों चुदाई की अनोखी  सैर पर निकल गये थे. हम भाई बहन में चुदाई की ऐसी सरगम जमी की बस मत पूछिए. जहाँ एक ओर मेरी कमर डिस्को डांस कर रही थी, वही आलिया की कमर शिलपा शेट्टी जैसी नाच रही थी. आखिर इसे ही तो कहते है असली चुदाई. मुझे तो यही लड़ने लगा दोस्तों की अल्ला ताला ने मुझे ये मजबूत मोटा लंड अपनी बहनिया को पेलने के लिए ही दिया था. 

आलिया लेटे लेटे कमर नचा रही थी, जैसे उसमे स्प्रिंग लगा हो.कुछ अंतराल के बाद मैं बड़ी जोर जोर से हुमक हुमक से उसको वहसी की तरह चोदने लगा. पट पट चट चट का शोर बजने लगा. डर लगा की कहीं अम्मी अब्बू ने हम भाई बहनों को चुदाई का खेल खेलते देख लिया तो क़यामत आ जाएगी. पर उपर वाले से साथ दिया. अम्मी अब्बू गहरी नींद में सो रहें और मैं धकाधक अपनी बहन को नंगा करके चोद रहा था.मेरे ताबड़तोड़ बढते धक्कों ने आलिया की कमर उपर को उठ जाती थी. मेरा लंड उसकी बुर में पूरी तरह धस गया था. आज मैं उसकी बुर फाड़ के रख दी थी.आलिया खुद अपने मम्मो को जोर जोर से दबा रही थी. यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मैंने उसकी कमर को दोनों हाथों ने पकड़ रखा था. मेरी जोर दार धक्कों ने बहन का पूरा जिस्म काँप रहा था. उसमे झुरझुरी दौड़ रही थी. १ घंटे बाद मैं आउट हो गया. आलिया अभी १४ १५ साल की है, कभी प्रेगनंट ना हो जाए, इससे बचने के लिए मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया. फुच फुच मेरे माल की पिचकारी छुटने लगी और उसके उपर गिरने लगी. मेरा माल उसके मुह, नाक , मम्मो, गले, पेट, नाभि हर जगह गिरा. आलिया उसको ऊँगली में लेकर चाटने लगी. कुछ देर बाद मैं फिर अपनी बहन को चोदा.उसके बाद तो दोस्तों, मैं बी ए तक अपनी बहन को रोज अपने कमरे में नंगा करके चोदता खाता रहा. कुछ समय बाद उसकी शादी हो गयी. अब तो मेरे दुल्हाभाई ही मेरी बहन को हर रात लेते है.कैसी लगी हम डॉनो भाई बहन की सेक्स स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी बहन की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना चुदाई की प्यासी बहन.

अविवाहित बड़ी बहन को चोदा

Mastram ki kahani - बड़ी बहन के साथ चुदाई, Chudai Kahani, हिंदी सेक्स कहानी - behan ki chudai, 22 साल की अविवाहित बहन की चुदाई hindi story, बहन को चोदा sex story, बहन की प्यास बुझाई xxx kamuk kahani, बहन ने मुझसे चुदवाया, behan ki chudai story, बहन के साथ चुदाई की कहानी, Behan ki chut mari, बहन के साथ सेक्स की कहानी, behan ko choda xxx hindi story, बहन ने मेरा लंड चूसा, बहन को नंगा करके चोदा, बहन की चूचियों को चूसा, बहन की चूत चाटी, बहन को घोड़ी बना के चोदा, 8" का लंड से बहन की चूत फाड़ी, बहन की गांड मारी, खड़े खड़े बहन को चोदा, बहन की चूत को ठोका,

अपनी बड़ी बहन के बारे में बता दूँ लम्बाई इंच है , साइज़ 38-26-36, उनका शरीर काफी गोरा है और मेरी दीदी शादीशुदा हैं और उनकी शादी को एक साल हो गया था। मेरे जीजा जी गावं के बगल में जॉब में है और उनका ट्रान्सफर रूरल एरिया में हो गया था जिससे दीदी को वो अपने परिवार की देखभाल के लिये लखनऊ में ही छोड़ गये थे।

एक दिन मेरे घर के सभी लोग शादी में गये थे इसलिये दीदी और मैं ही घर पर थे। सभी लोगो को बस में बिठाने के बाद मैं कॉलेज चला गया। रात को हमने खाना खाया और अपने–अपने कमरे में चले गये। रात को करीब एक बजे दीदी मेरे कमरे में आई और मुझे जगाया में उठा और पूछा क्या हुआ तो बोली कुछ नही और वापस चली गयी। थोड़ी देर बाद फिर आई और पुछा सौरभ सो गया क्या तो मैं बोला नही।यूएक्स बाद मैने पुछा क्या हुआ तो बोली मुझे नींद नही आ रही है तो मैंने कहा आपकी तबीयत तो ठीक है ना। पर अब उनकी साँसे कुछ तेज़ चल रही थी और घबरा भी रही थी तो मुझे लगा की तबीयत ही खराब होगी मैने कहा आपकी तबीयत ठीक नही लग रही है। तो वो बोली तबीयत तो ठीक है पर तुमसे कुछ बात करनी है मैं बोला ठीक हैं बताओं। वो बोली की तुम अब बड़े हो गये हो। मेरी मदद करोगे तो मैने कहा हाँ क्यों नही। तो बोली मेरा दूध पीवोगे ? आज से पहले कभी हमारी इस तरह की बाते नही हुई थी (दीदी को कभी किसी लड़के के बारे में बात करते या मिलते नही सुना था) इसलिये ये सुनकर मैं दंग हो गया। मैने पुछा क्या? तो वो बोली हाँ।।(अब उनकी साँसे काफ़ी तेज़ हो गई थी और दिल काफ़ी तेज़ धक धक कर रहा था जिससे उनके चूचियों के हिलने से पता चल रहा था।यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मैने दीदी से पूछा किस लिये? कुछ देर चुप रहने के बाद उठकर चली गयी। इससे पहले मैने कभी किसी लड़की से ये बात नही की थी इसलिये मैं दंग था पर अंदर से अजीब सी खुशी हो रही थी जो मैं बता नही सकता। करीब 10 मिनिट के बाद वो फिर वापस आई और इस बार वो काफ़ी कॉन्फिडेंट दिख रही थी और पुछा क्या सोचा हैं। मैने कहा क्या हो गया है आपको? अब मेरी साँसे भी तेज़ हो गयी थी जिससे मेरी आवाज़ नही निकल रही थी पर मेरा लंड खड़ा हो गया था। वो बोली देखो मैं काफ़ी दिनो से तुम्हारे जीजा से नही मिली हूँ अब मुझे उनकी ज़रूरत है। मेरी तबीयत अब सेक्स करने से ही ठीक होगी। ये सुन कर मेरा लंड अब पेन्ट फाड़ने को तो तैयार था। वो बोली मैं जानती हूँ की तुम्हे भी एक लड़की की ज़रूरत है। मैने कहा पर आप मेरी दीदी हो।। वो बोली इसलिये तो कह रही हूँ अब उनका और मेरा चेहरा लाल हो चुका था।मैने कहा पर मैने कभी किया नही है तो बोली मेने तो किया है। मैने कहा अगर कुछ हो गया तो वो बोली कुछ नही होगा और ना किसी को पता चलेगा। अब सब बंद करो। मैने ब्लू फिल्म कई बार देखी थी तो मुझे पता था पर रियल में तो उससे भी ज्यादा मज़ा आता है।

फिर वो मुझे अपने रूम में ले गयी। उस दिन उन्होने लाल सिल्क नाइटी पहन रखी थी क्या गजब लग रही थी ये तब पता चला जब ये सब हुआ। दीदी बोली आओ फिर मेरा एक हाथ अपने चूचियों पर रख दिये और कहा इसे दबाओ। मेने वैसा ही किया पर थोड़ा डर रहा था की दर्द होगा।फिर वो बोली थोड़ा ज़ोर से दबाओ मैने कहा दर्द होगा वो बोली दर्द नही होगा और अपने लाल होठों को एक बार मेरे होठों से किस किया मुझे तो जैसे शॉक लगा पर मज़ा आया। फिर मैंने अपने होठों को उनके होठों से लगाया और चूसने लगा वो बराबर साथ दे रही थी। मैने उन्हे बेड पर लेटा दिया और उनके उपर चड गया। मैने फिर किस करना स्टार्ट कर दिया। कुछ देर बाद में थोड़ा नीचे आया और उनके चूचियों को नाइटी के उपर से काटा उनके मुँह से अहह निकल गयी। फिर मैं चूचियों से नीचे आया और उनके पेट पर किस किया फिर और नीचे गया पर बूर को किस नही किया। अब में उनके पैर के अंगूठे को किस किया और उपर बढ़ने लगा। धीरे धीरे मैं उनकी नाइटी को उपर करता गया और पैरो को किस करता रहा।यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।जब मैने उनकी नाइटी को कमर पर किया तो देखा उन्होने सिल्क लाल पेंटी पहन रखी थी पर वो कुछ भीगी लग रही थी जब मैं उनकी जांघो को किस कर रहा तो एक मधहोश कर देने वाली सुगंध पेंटी से आ रही थी। मैने पेंटी को किस किया तो मेरे होठ भीग गये। मैंने धीरे धीरे नाइटी को उपर चढ़ाया और उनके चूचियों तक पहुच गया। उन्होने गुलाबी कलर की ब्रा पहन रखी थी मैंने ब्रा के उपर से ही चूसना शुरू कर दिया वो एकदम कड़क हो गई। फिर उन्हे उठाया और नाइटी उतार दी दीदी ने मेरे सारे कपड़े उतार दिये। दीदी बोली तुम तो कह रहे थे कुछ नही जानते हो तब ये सब कैसे? मेंने कहा आप को देख कर हुआ जा रहा है। मैने उन्हे किस किया और ब्रा उतार दी अब चूचियों नंगे थे मैने तुरन्त उनके निपल को चूसना और काटना चालू कर दिया वो बोली आराम से चूसो में कहीं नहीं जा रही हूँ।मैंने कहा आपने ही तो बोला था दूध पीने को वो बोली तो दूध पीने का मज़ा आया मैने कहा बहुत। अब मैं नीचे आया और उनकी पेंटी निकाल दी। क्या बूर थी यारो। गुलाबी बूर वो भी रियल लाइफ में पहली बार तो आप लोग समझ सकते हैं उस वक़्त क्या महसूस हो रहा होगा मुझे। बहन की बूर के बाल छोटे छोटे थे। मैने उनके पैर फैलाये और लग गया बूर चाटने को जैसे ही मैने अपनी जीभ उनकी बूर की फाको पर रखी मधहोशी छा गयी।

मैने धीरे धीरे चाटना जारी रखा पर दीदी ने मेरा सर पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से अपनी बूर पर रगड़ने लगी फिर कुछ देर में उनका पानी मेरे मुँह पर निकल गया। मैं कुछ समझ नही पाया पर टेस्ट अच्छा लगा तो बूर और चाट ली। दीदी बिल्कुल शांत हो गयी थी पर मैने बूर चाटना जारी रखा। कुछ देर बाद बोली उपर आ जा मैं उपर गया तो उन्होने फिर से किस स्टार्ट कर दिया। मैने रेस्पॉन्स दिया और साथ में चूचियों दबाता रहा अब वो फिर तैयार हो गयी।मैं भी एग्ज़ाइटेड था इस बार में बूर मेंने एक उंगली डाली और अंदर बाहर करने लगा फिर एक और उंगली डाल दी। दीदी बोली उंगली निकाल लंड डाल उंगली करने से अगर ये शांत हो जाती तो तेरी क्या ज़रूरत थी। ये सुनकर मुझे जोश आ गया और मैने लंड दीदी की बूर के मुँह पर रख दिया और धक्का मारा। मेरे लंड का अगला सिरा ही बड़ी मुश्किल से गया की मुझे दर्द होने लगा। दीदी बोली जा क्रीम ले कर आ मैं क्रीम ले आया और उन्होने अपने हाथो से मेरे लंड पर क्रीम लगाने लगी में एग्ज़ाइटेड होने की वजह से उनका हाथ लगते ही मैने उनके उपर ही वीर्य गिरा दिया। मैं डर गया पर वो बोली कोई बात नही ऐसा होता है। उन्होने वीर्य साफ किया और फिर मेरा लंड अपने मुँह मे ले लिया थोड़ी देर चूसने के बाद मेरा लंड फिर खड़ा हो गया।यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर उन्होने क्रीम मेरे लंड और अपनी बूर पर लगाई और बूर की तरफ़ इशारा करके कहा चलो लग जाओ काम पर। उन्होने अपनी टाँगे फैला ली और मैने बूर पर अपना लंड रगड़ा। बूर के मुँह पर लंड रख कर झटका मारा पर थोड़ा ही लंड अंदर गया की मुझे फिर दर्द होने लगा। दीदी बोली फर्स्ट टाइम होता है दर्द। चलो मर्द बनो और अपनी दीदी की बूर को फाड़ डालो। ये सुन कर मुझे जोश आ गया एक जबरदस्त झटका मारा और मेरा पूरा लंड अंदर चला गया मैं और दीदी दोनो ही चीख पड़े। मेरा लंड थोड़ा मोटा है और लंबा भी इसलिये। मुझे ज़्यादा दर्द हो रहा था तो दीदी बोली मेरा दूध पीओं तो ताक़त मिल जायेगी और लंड बूर में डाले डाले ही में उनके लिप्स और चूचियों बारी बारी से चूसने लगा।यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।अब मुझमे और ताक़त आ गई मैने धीरे धीरे लंड आगे पीछे करने लगा। दीदी भी साथ दे रही थी और मेरे झटको की गति बढ़ती जा रही थी। दीदी के मुँह से आआआआहह ओंऊऊऊओहूऊ की आवाज़ निकल रही थी जिसे सुनकर जोश बढ़ रहा था। दीदी अपनी टांगो को सिकोड़ने लगी जिससे मुझे ज्यादा ताक़त लगानी पड़ रही थी। फिर दीदी का पानी निकल गया। उन्होने रुकने को कहा। मैं रुक गया और उनके चूचियों को चूसने लगा कुछ देर में वो फिर तैयार हो गई और कहा तुम भी काम पूरा कर लो। में तुरन्त झटके मारना चालू कर दिया कुछ देर बाद मेरा माल निकलने वाला तो मैने कहा मेरा निकल रहा है वो बोली अंदर ही डाल दे कुछ नही होगा जब तक गर्म लावा अंदर नही पड़ेगा तब तक शांति नही मिलेगी। फिर हम दोनो झड़ गये और मैं उनके उपर ही लेट गया। अब सुबह के 5 बज रहे थे। और हम सोने चले गये थे।कैसी लगी मेरी बहन की सेक्स कहानियाँ , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर तुम मेरी बहन के साथ सेक्स करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SaliniSharma.

भाई बहन की चुदाई कहानियाँ

चुदाई की कहानियाँ - Bhai behan ki chudai xxx kahani, भाई ने मुझे चोदा Hindi story, भाई बहन की चुदाई Indian sex stories, भाई से चूत की खुजली मिटवाई Chudai kahani, भाई का 8" का लंड से खूब चुदी xxx real kahani, भाई ने चूत की प्यास बुझाई Sex story, भाई से चूत चटवाई, bhai se chudwaya xxx story, भाई से गांड मरवाई, भाई से चूत की प्यास बुझाई antarvasna ki hindi sex stories,

मेरा नाम रानी है। मेरे मम्मे 36, गांड 36 और जिस्म भरा हुआ है। मैं दिखने में इकदम मस्त व चिकना माल हूं। जब मैं चलती हूं तो मेरी मटकती गांड और बड़े – बड़े तने हुए गोल – गोल मम्मे देखकर लड़कों के लंड खड़े हो जाते हैं। मेरे घर में मेरे इलावा मम्मी-पापा और मेरा छोटा भाई कमल हैं। ये कहानी मेरे और मेरे भाई की सेक्स कहानी है और ये कहानी बिल्कुल सच्ची है।मेरे भाई की आयु 20 वर्ष और कद 6फीट है। वो दिखने में बहुत सेक्सी है कि कोई भी लड़की उस से चुदना चाहे। मैं भी उस से चुदना चाहती थी। उस का लंड लंबा व मोटा है। अब मैं  कहानी पे आती हूं।मैं और मेरा भाई आपस में बहुत खुले हुए थे। हम भाई बहन कम दोस्त ज्यादा थे। हम आपस में हर प्रकार की बातें कर लेते थे यहां तक कि नॉन वेॅज बातें भी पर मम्मी-पापा से चोरी। मुझे कॉलेज टाईम से ही सेक्सी किताबें पडऩे की लत लग गई थी। फिर मैं मोमबत्ती को चूत में डालकर गरमी निकाल लेती थी। इस से मेरी झिल्ली फट चुकी थी।

मैं और मेरा भाई एक ही रूम में सोते थे। मेरे पास जो सेक्सी किताबें थीं वो हम रात को एकसाथ पढ़ते थे और कई बार रोलप्ले भी कर लेते धीरे-धीरे ताकि किसी को आवाज सुनाई न दे। एसा करने से भाई का लंड खड़ा हो जाता था। हम दोनो ही कामवासना में झुलस रहे थे पर डरते थे। रात को कई बार मैं उसके लंड पर हाथ रख देती तो कभी वो मेरे मम्मों हाथ रख कर सोने का नाटक करता।पिछले वर्ष जून में पापा को आॅफिस की ओर से एक महीने केलिए सिंगापुर का टूर मिला। मम्मी-पापा सिंगापुर चले गए। अब हम घर में अकेले थे और मौका भी था। उस दिन मैंने सकर्ट और शर्ट पहनी जिस में मेरी मांसल जांघें दिख रहीं थीं  और जानबूझकर शर्ट के दो बटन खुले छोड़ दिए जिस में से मेरे मम्मों की गोलाईयां बाहर निकल रहीं थीं और भाई के पास चली गई। वो मुझे एकटक देखता रह गया। मैंने देखा भाई का लंड खड़ा हो गया था। मैंने भाई से कहा मुझे बाईक सीखना है। भाई ने हां कर दी। हमारा घर शहर से 7 कि मी है। उस रास्ते पर जंगलात महकमे की जमीन है और हमारा खेत व घर। शाम के पांच बजे के बाद उस रास्ते पे हमारे सिवा कोई आता-जाता नहीं। अब तो शाम के छ: बज गए थे।यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।भाई ने बाईक बाहर निकाली। मैं आगे बैठ गई और भाई पीछे। मैंने बैठते समय अपनी सकर्ट गांड तक ऊपर उठा ली। मेरे जिस्म का सपर्श पाते ही भाई का लंड तन गया। मैं धीरे-धीरे बाईक चलाने लगी। भाई का लंड मेरी गांड की दरार में घुस रहा था और उसके हाथ मेरे मम्मो पर थे। मैंने ब्रेक लगा दी।
मैं  चलो घर चलते हैं।
भाई  क्या हुआ बाईक नहीं चलानी?
मैं  नहीं घर चलो।
घर आ कर
भाई  क्या हुआ दीदी?
मैं  (भाई का लंड पकड़ते हुए ) मुझे ये चुभ रहा था।
भाई आज तुम इतनी सेक्सी लग रही हो तो मुझ से कंटरोल नहीं हुआ।
मैं आज इसे मैं ही शांत करती हूं। रूम में चलो।

रूम में आ कर मैंने भाई के और भाई ने मेरे कपड़े निकाल दिए। अब हम बिल्कुल नंगे थे। फिर मैंने भाई को कस के अपने सीने से लगा लिया और एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे।हम दस मिंट तक एक -दूसरे को चूमते रहे।भाई  दीदी मैं कभ से आपको चोदना चाहता था।मैं बहनचोद पहले बोल देता मैं तो कब से तुझ से चुदने केलिए मर रही थी। खैर अब तो इच्छा पूरी हो रही है।भाई दीदी तेरे मम्मे बहुत मस्त हैं।यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं अबे साले देखता ही रहेगा या चूसेगा भी।भाई अच्छा साली रंडी इन्हें चूस-चूस के लाल कर दूंगा। पुच पुच पुच साली तेरे मम्मे कितने बड़े हैं कब से बेताब था आज हाथ लगे हैं पुच पुच पुचमैं आह आह आह सीईई ईई चूउउस भाईईई चूउउस जोर-जोर से चूस बड़ी देर से मचल रही थी चूउउस आहह ईई  ंंसईईई आहह तेरा लंड तो काफी मोटा तगड़ा है। अब मैं तेरे लंड को चूसूंगी। (मैंने भाई का लंड मुंह में भर लिया ) पुच पुच हाआआआ पुच भाई  आह आहहह सईईई आआहा  दीदी आहहह दीईईईई तुम तो ब्लू फिल्म की हीरोइन से भी अच्छा लंड चूसती हो जोर-जोर से चूसो आहहहह दीईईईई  आह आहहह  चूउउउउउसो आहहह
मैं  मज़ा आया भाई  हां दीदी अब मैं तेरी चूत चाटूंगा।

मैं अपनी टांगें खोलकर बिस्तर पर लेट गई और भाई मेरी चूत चाटने लगा।
भाई  सपड़ सपड़ सपड़  अरे दीदी तेरी चूत पर तो एक भी बाल नहीं सपड़ सपड़ सपड़
मैं  आहहहह आहहहह आआहा सईईईई सईईईई  हां मेरे राजा तेरे लिए ही साफ-सफाई की है सईईईई आहहह सईईईई आ आआआहाआ भाई जल्दी से मेरी चूत में लंड डालकर मुझे अपनी पत्नी बना लो आहहहह भाई मेरी चूत में अपना लंड डालकर धक्के मारने लगता है और मैं गांड उचका – उचका कर गपागप चूत में लंड ले रही हूं भाई  आहहहह आहहहह ले ले अपने बहनचोद भाई का लंड आहहहह आ  आज मैं तेरी चूत का भोसडा़ बना दूंगा आहहहहमैं  आहहहह सीईईईईई सीईईईईई सीईईईईई  ंंआआआहह आआआहह आज से तू मेरा भाई नहीं बल्कि पति है आआआहह आआआहह सीईईईईई आहहहह मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया आहहहह आआआहह आआआहह भाई चल मेरी पत्नी बहन कुतिया बन जा तेरी गांड बजने बाली है।यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं कुतिया बन जाती हूं और भाई मेरी गांड में लंड डाल देता है। पहले तो दर्द होता है फिर मज़ा आता है।भाई आहहहह आहहहह आज तो तेरी गांड को फाड़ दूंगा आहहहह आहहहह मैं आहहहह सईईईई आआआहह सीईईईईउउऊ फाड़ दो पतिदेव आहहहह सीईईईईउउऊ बहुत तंग करती है साली सीईईईईउउऊ सीईईईईउउऊ आआआहह ऊऊऊऊऊसीईईईईईई भाई आहहहह आआआहह मेरा छूटने वाला है। मेरा मेरी गांड में झड़ जाओ।ये चुदाई कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। भाई ने अपना माल मेरी गांड में छोड़ दिया। मुझे अपनी गांड में कुछ गरम -गरम गिरता महसूस हुआ। मुझे बहुत आनंद आया और भाई को भी। उस रात हमने तीन बार चुदाई की। मुझे एसा सुख पहली बार मिला। सुबह भाई ने मेरी मांग भर कर पत्नी बना लिया। अब हम रोज रात को चुदाई का खेल खेलते हैं। अब हम भाई बहन नहीं बल्कि पति-पत्नी हैं।कैसी लगी हम डॉनो भाई बहन की सेक्स स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो अब ऐड करो Facebook.com/Bhai ka lund ki pyasi behan

दीदी ने मुझसे चुदवाया रियल कहानी

Desi sex stories - दीदी के साथ मस्त चुदाई, raat me didi ne mera lund chusa aur raat bhar mujhse chudwaya, दीदी ने रात भर मुझसे चुदवाई और धमकी दी की माँ को नहीं बताना, दीदी को चोदा hindi sex story, दीदी की प्यास बुझाई Sex story, बहन की चूत में भाई का लंड Hindi hot story, दीदी के साथ चुदाई की कहानी, hindi sex kahani, दीदी के साथ सेक्स की कहानी, didi ko choda xxx hindi story, जवान दीदी की कामवासना xxx antavasna ki hindi sex stories, दीदी की चूचियों को चूसा, दीदी को घोड़ी बना के चोदा, 8" का लंड से दीदी की चूत फाड़ी, दीदी की गांड मारी, दीदी की कुंवारी चूत को ठोका,

शादी में लेट क्या हो रहा है वो मुझे ही अपने जाल में फंसा ली और अब मुझसे ही चुदवाती है और वो भी रोज रोज मुझे कभी कभी डर भी लगता है की कही मेरी दीदी मुझसे ही प्रेग्नेंट ना हो जाये, पर मैं कर भी क्या सकता हु, वो अब मुझे कहती है की ये बात किसी और की नहीं बताना, थोड़े दिन की ही तो बात है फिर मेरी शादी हो जाएगी और मैं अपने पति के पास चली जाउंगी फिर तुम्हे तंग नहीं करुँगी, मैं इसलिए चुप हु क्यों की मुझे भी लगता है की कही अगर मैं नहीं चोदा तो वो कही और चुदबायेगी इसलिए अच्छा है की अपने घर की इज्जत अपने ही घर में रह जाये.

दोस्तों पहले तो मुझे लग रहा था की मैं ये कहानी किसी और को नहीं बताऊँ पर मेरा मन नहीं मान रहा था, मेरे अंदर ये बात काटे खा रहा था की क्या मैं सही कर रहा हु क्या मैं गलत कर रहा हु, मैं अपने दिल का बोझ ख़तम करने के लिए आप लोगो को सामने अपनी कहानी नॉनवेज स्टोरी के माध्यम से इस वेबसाइट पर डाल रहा हु, ताकि मैं अपने दिल का बोझ हल्का कर सकूँ, दोस्तों अब मैं सीधे कहानी पर आता हु,मैं उत्तर प्रदेश के एक छोटे से शहर में रहता हु, मैं आपको शहर का नाम नहीं बताऊंगा क्यों की मैं अपनी पहचान जाहिर नहीं करना चाहता, मेरे घर में मैं मेरी बहन सरिता दीदी मेरे पापा और मेरी माँ है. पापा को ढाबा है जीटी रोड पर वो अक्सर ढाबा में ही रहते है और वही सोते है. ये जो चुदाई की शुरुआत है वो तब की है जब मेरी माँ नानी घर गयी थी क्यों की नानी की तबियत ख़राब थी, हम घर में दोनों भाई बहन थे, मैं २१ साल का हु और मेरी बहन २६ साल की है. उसके लिए काफी लड़का ढूढ़ रहे है पर अभी तक कोई काबिल नहीं मिला है. जब से उसके लिए लड़का ढूंढने का काम शुरू हुआ था तब से वो ना जाने किस ख्वाब में रहने लगी, देर रात तक जागती, कभी कभी उसका पलंग से आवाज आने लगता, मैंने धीरे धीरे नोटिस करना चालू किया की वो आखिर रात में करती क्या है की जोर जोर से पलंग हिलता और आवाज आती. मुझे ऐसा लगने लगा की वो शायद अपने चूत में कुछ डालती है और थोड़े देर में शांत होती है और फिर सो जाती है.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।ये सारे कारनामा हम रोज रोज देखते थे, क्यों की हम दोनों एक ही कमरे में सोते थे, पर अलग अलग पलंग पर सोते थे, कुछ दिन बाद मैंने नोटिस किया की वो रात में अपनी पेंटी और ब्रा खोल कर सोने लगी. क्यों की उसकी चूचियां साफ़ साफ़ नजर आती थी उसकी नाईटी से, बड़ी बड़ी सॉलिड सॉलिड, दोस्तों मेरा भी मन ख़राब होने लगा, अपनी बहन की इस हरकत से, है भी बहूत ही हॉट, सरिता दीदी की साइज ३६-२४- ३६ है, दोस्तों किसी का भी दिमाग ख़राब हो जाये उसके चूतड़ को पीछे से देखकर और आगे से उनकी चूचियों को देखकर, बड़े बड़े लंबे लंबे बाल गुलाबी होठ, लंबी और गोरी जबरदस्त दिखती है. जब वो काजल और होठ को गुलाबी रंग से रंगती है तब तो वो सेक्स की देबि लगती है.

दोस्तों ऐसे ही दिन बीतने लगा. मैं भी रात में मजे लेने लगी. अब मैं भी अपनी आँख अपनी बहन को देखकर सेकने लगा. उस दिन की बात है जब माँ नानी के यहाँ गई थी. रात के करीब ११ बजे थे गर्मी का दिन था. वो हल्का सा बेडशीट ओढे थी. मैं सोने का नाटक करने लगा. तभी फिर से उसका पलंग हिलने लगा. फिर करीब दस मिनट में ही शांत हो गई. मैं समझ गया की मेरी दीदी आज भी अपने चूत में शायद बैगन पेल रही है. तभी वो उठी, उसकी चुचिया साफ़ साफ़ टाइट दिख रही थी. निप्पल भी साफ़ साफ़ दिखाई दे रहा था. जब वो उठी और बाथरूम के तरफ जाने लगी. उसकी चूतड़ हिलोरे मारते हुए चलने लगी. गजब की लग रही थी बाल निचे तक थे खुला हुआ, मैं तो मर गया दोस्तों, मेरा लंड खड़ा हो गया, ऐसा लग रहा था की मैं चोद दू,तभी वो वापस आने लगी. मैं चुपचापहो गया, शांत हो गया पर मेरा लंड शांत नहीं था, वो तम्बू बना कर खड़ा था. सरिता दीदी जैसे ही आई बोली आलोक तुम जाग रहे हो. मैं कुछ भी नहीं बोला, वो फिर से बोली तू जाग रहे हो. मैं फिर भी चुप था. उसने फिर से कहा मैं सब समझ रही हु, तुम क्या देख रहे थे, तुम्हे शर्म नहीं आई एक जवान बहन को रात में ऐसे घूरते हुए. मैंने जाग गया, मैं डर गया था की पता नहीं वो माँ से तो नहीं कह देगी, तभी वो मेरे पलंग पर बैठ गई और मेरा लौड़ा पकड़ ली. मेरा लौड़ा काफी मोटा और तना हुआ था. वो भी ये है सबूत मुझे घूरने का, मैंने कहा सॉरी दीदी, गलती हो गई अब ऐसा नहीं होगा.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।वो मेरे ऊपर चढ़ गई. और मेरा पेंटी निचे कर दिया. और मेरे लंड को पकड़ कर बोली, इसका कीमत तुम्हे चुकानी पड़ेगी. मैंने कहा कैसी कीमत, उसने अपने सारे कपडे उतार दिए, दोस्तों पहले तो मेरा लंड थोड़ा डर से छोटा भी हो गया था पर, जैसे उसने कपडे उतारी, मेरा लंड तो और भी मोटा और लंबा हो गया, मैंने कहा ये क्या कर रही हो दीदी मैंने तुम्हारा भाई हु, तो वो बोली जब भाई बहन की चूचियां और गांड को घूर रहा हो तब वो भाई नहीं बचता है. वो बॉय फ्रेंड हो जाता है. मैंने कहा पर मैं ऐसा कुछ भी नहीं करूँगा, तो वो बोली नहीं कर देख मैं क्या करती हु, मैं माँ और पापा को बोलूंगी की जब मैं सो रही थी तब तुम मेरे प्राइवेट पार्ट को सहला रहा था. दोस्तों मैं डर गया, बहूत ही ज्यादा डर गया.

उसने कहा जैसा मैं कहती हु, वैसा कर मैं कुछ भी नही बोलूंगी और मेरी दीदी मेरे लंड को अपने मुह में लेके चूसने लगी. धीरे थोड़े देर बाद वो ऊपर आ गई और मेरे ऊपर चढ़ गई और मेरे होठ को चूसने लगी. दोस्तों मैं बहूत ही ज्यादा कामुक हो गया था. और जब दीदी ने अपनी चूचियां मेरे मुह में दी. और बोली ले चूस, मैं अपने बहन की चूचियों को चूसने लगा, मेरे तन बदन में आग लग गई. और मैंने जोर जोर से अपनी बहन की चुचिओं को पिने लगा और दबाने लगा. थोड़े देर बाद वो मेरे मुह के पास बैठ गई उसके चूत मेरे मुह के पास था. उसने कहा मेरे चूत की पानी को अपने जीभ से साफ़ कर और पि जा.दोस्तों मैंने अपने बहन की चूत को चाटने लगा. वो अपने चूत से नमकीन पानी निकाल रही थी और मैं तुरंत ही चट कर जा रहा था. वो आह आह आह आह आह कर रही थी. और मैं दोनों हाथो से चूचियों को मसल रहा था और जीभ से चूत को चाट रहा था. उसके थोड़े देर बाद वो निचे हो गई और मेरा लंड जो की अब करीब नौ इंच का हो गया था पकड़ कर अपने चूत पे रख कर बैठ गई. दोस्तों मेरा लंड पूरा उसके चूत के अंदर समा गया. अब वो जोर जोर से बैठने लगी और उठने लगी. लंड अंदर बाहर जा रहा था और मेरी बहन के मुह से सिर्फ आह आह आह आह आह निकल रहा था.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वो खूब जोर जोर से चुदवाने लगी. फिर वो निचे हो गई और मैं ऊपर हो गया और फिर मैंने उसके दोनों पेअर को अपने कंधे पर रख कर, जोर जोर से उसके चूत में अपने लंड को डालने लगा. दोस्तों ये कहानी आप नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे पढ़ रहे है. इस तरह से वो मुझे रात भर मेरे से अलग अलग पोजीशन में चुदवाने लगी. उसके फिर मेरे साथ ही नंगे ही सो गई.दोस्तों दूसरे दिन मेरी दीदी मुझे २०० रूपये दी और बोली कंडोम ले आना, मैंने कंडोम शाम को बाजार से कंडोम भी लेके आ गया. रात में फिर से वो मुझेसे चुदवाने के लिए अपने सारे कपडे उतार दी. और मेरा भी कपडे उतार दी. और फिर से चुदवाने लगी, जब हम दोनों झड़ गए तो मैंने कहा दीदी ये सब गलत हो रहा था. उसने कहा क्या गलत हो रहा है. जब तक मेरी शादी नहीं हो जाती तुम मुझे ऐसे ही चोदते रहो, नहीं तो मैं मम्मी को क्या क्या बताउंगी तुम्हे समझ भी नहीं आएगा और बे मतलब में बदनाम हो जायेगा.यह सेक्स कहानी आप चुदाई कहानी साइट डॉट कॉम पर पड़ रहे है।दोस्तों उसके बाद वो मझसे बिना कंडोम के ही चुदवाने लगी. कहती है की कंडोम में मजा नहीं आता है. दोस्तों अब मैं क्या बताऊँ आपको मुझे डर है की कही वो प्रेग्नेंट ना हो जाये, अब मैं रोज रोज अपने बहन को चोदता हु और वो मुझसे खूब मजे लेती है अलग अलग पोजीशन में.कैसी लगी भाई बहन की सेक्स कहानियाँ , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर तुम मेरी दीदी की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/PriyaDidi.

© Copyright 2013-2019 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM